DA Image
21 सितम्बर, 2020|12:38|IST

अगली स्टोरी

पुलिस ने रोकी किसान अधिकार यात्रा, चार गिरफ्तार

पुलिस ने रोकी किसान अधिकार यात्रा, चार गिरफ्तार

किसानों की मांगों को लेकर कांग्रेस सेवादल के बैनर तले सोमवार को किसान अधिकार यात्रा भैंसा बुग्गी रैली निकाली। पुलिस ने किसान अधिकार यात्रा को लोहियानगर सब्जी मंडी रोक लिया। पुलिस और प्रदर्शनकारियों में झड़प हुई। बाद में पुलिस ने रोहित गुर्जर समेत चार लोगों को गिरफ्तार कर लिया। बगैर अनुमति रैली निकालने, मास्क नहीं लगाने, सोशल डिस्टेसिंग का पालन नहीं करने और धारा 144 का उल्लंघन समेत विभिन्न आरोपों में मुकदमा दर्ज कर लिया।

कांग्रेस सेवादल जिलाध्यक्ष रोहित गुर्जर के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं और किसानों की रैली लोहियानगर से शुरू हुई। भैसा-बुग्गी में सवार होकर कांग्रेसी और किसानों ने सुबह करीब 11 बजे कमिश्नर दफ्तर के लिए कूच किया। कांग्रेस प्रदेश सचिव मोनिंदर सूद वाल्मीकि, विनोद भड़ाना, तुलसीदास, मास्टर रणपाल, सुमित विकल, जुबेर राजपूत, ऋषभ चौहान, आशाराम, मोनिंदर सूद वाल्मीकि, शुभम भाटी, अभिमन्यु त्यागी, नसीम राजपूत भी शामिल रहे। रात से ही पुलिस किसान अधिकार यात्रा रोकने के लिए जुटी थी। पुलिस ने लोहियानगर सब्जी मंडी के पास रैली को रोक लिया। जमकर नोकझोंक हुई लेकिन पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को आगे नहीं जाने दिया। बाद में सिटी मजिस्ट्रेट और पुलिस क्षेत्राधिकारी के निर्देश के बाद खरखौदा थाना पुलिस ने रैली का नेतृत्व कर रहे कांग्रेस सेवादल जिलाध्यत्र रोहित गुर्जर, सुमित विकल मिठेपुर, जीत सिंह, बिल्लू को गिरफ्तार कर लिया। भैंसा बुग्गियों को कब्जे में ले लिया। गिरफ्तार आरोपियों को पुलिस ने कोर्ट में पेश किया। कांग्रेस सेवादल जिलाध्यक्ष रोहित गुर्जर ने बताया कि किसान अपनी मांगों से ज्ञापन के माध्यम से कमिश्नर को अवगता कराना चाहते थे। आवास एवं विकास परिषद द्वारा गांव काजीपुर, सरायकाजी, कमालपुर व घोसीपुर की जमीन जागृति विहार एक्सटेंसन विस्तार योजना-11 के लिए वर्ष 2008-09 में उक्त गांवों के सर्किल रेट के हिसाब से और इन गांवों के प्रत्येक किसान के साथ समझौता कर अधिग्रहण की गई थी।

मांगें पूरी होने तक जारी रहेगा आंदोलन

कांग्रेस सेवादल जिलाध्यक्ष रोहित गुर्जर ने कहा कि किसान शांत नहीं बैठेंगे। अब आगामी आंदोलन की तैयारी कर किसान फिर मजबूती से आंदोलन करेंगे।

यह हुआ था तय :

सरायकाजी, काजीपुर व मेरठ कस्बे को एक हजार रुपये वर्गमीटर व कमालपुर को 800 रुपये वर्गमीटर व घोसीपुर को 600 रुपये वर्गमीटर प्रतिकर दिया गया। दस प्रतिशत जमीन आवास एवं विकास परिषद ने किसानों की काटी, जिसे पांच प्रतिशत भूखंड के रूप में विकसित कर किसानों को दी जानी थी। प्रत्येक समझौते में धारा 7.1 की शर्त भी रखी गई कि अगर इन गांवों में किसी भी किसान या गांव का प्रतिकर बढ़ाया गया तो वह पूरी योजना के किसानों को उसका लाभ मिलेगा। किसानों ने कहा कि तीन अगस्त 2012 को आवास एवं विकास परिषद ने अपनी 220 वीं बैठक में गांव कमालपुर का 196 वर्गमीटर व घोसीपुर का 396 वर्गमीटर बढ़ाकर 996 रुपये कर दिया गया। सरायकाजी,काजीपुर, मेरठ कस्बे व कमालपुर का 66 प्रतिशत घोसीपुर की तर्ज पर बढ़ा। जिसकी परिषद से काजीपुर,सरायकाजी, मेरठ कस्बे व कमालपुर के किसानों की मांगें लंबित चली आ रही हैं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Police stopped the farmers rights trip four arrested