DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सरकारी डाक्टर के नाम पर चलती मिली निजी पैथलॉजी लैब के विरोध हंगामा

गांधी आश्रम में मेडिकल कॉलेज के डाक्टर के नाम पर चल रही एक निजी लैब पर लोगों ने हंगामा कर दिया। एक रिपोर्ट में गड़बड़ी को लेकर हंगामा कर लोगों का आरोप लगाया कि लैब के संचालक सरकारी नौकारी में होते हुए अवैध तरीके से लैब का संचालन कर रहे है। हंगामा की सूचना पर मौके पर लैब संचालक भी पहुंच गए। दोनों पक्षों में काफी देर तक आरोप प्रत्यारोप लगाए गए। मेडिकल कालेज की माइक्रोबायालोजी लैब में चिकित्सक डॉ. अनिल कुमार है। गांधी आश्रम पर डॉ. अनिल की रॉयल पैथोलॉजी के नाम से लैब चल रही है। लोगों का आरोप है कि सरकारी चिकित्सक निजी प्रैक्टिस नहीं सकता है। इनका कहना है कि मेडिकल कालेज इलाज करा रहे एक मरीज को जांच के लिए गांधी आश्रम पर जांच कराने के लिए भेज दिया था। मेडिकल कालेज में निशुल्क जांच के एवज में उससे 1200 रुपए वसूल लिए गए। इससे गुस्साए परिजनों ने हंगामा कर दिया। इस मामले में कॉलेज प्रशासन ने जांच कराकर कार्रवाई की बात की है। दूसरे डाक्टर के नाम पर करा दिया रजिस्ट्रेशन मेडिकल कॉलेज के माइक्रो बॉयलोजी विभाग के डाक्टर अनिल कुमार ने बताया कि 26 दिसम्बर को कॉलेज में स्थाई नियुक्ति मिली है। लैब उस समय से चल रही है जब वह मेडिकल कॉलेज में कांट्रेक्ट पर थे। लैब का रजिस्ट्रेशन दूसरे डाक्टर के नाम से करने के लिए सीएमओ कार्यालय में आवेदन भी कर रखा है। स्वास्थ्य विभाग की टीम करेगी कार्रवाई प्रदेश में सरकारी चिकित्सकों की निजी निजी प्रैक्टिस पर रोक लगाने के लिए सीएमओ ने टास्क फोर्स बनाई है। इसमें मेडिकल, जिला अस्पताल समेत सीएमओ कार्यालय के अधिकारी है। सरकार को दो महीने से ज्यादा हो गए लेकिन अभी तक टीम ने कोई जांच और कार्रवाई नहीं की है। वहीं सीएमओ डॉ. वीपी सिंह ने कहा कि टीम ऐसे चिकित्सकों की गोपनीय जांच कर रही है। जल्द ही ऐसे मामले में कार्रवाई होगी। मेडिकल अस्पताल, जिला अस्पताल समेत शहर के नर्सिंग होम की सूचना मिली है सरकारी डाक्टर प्रैक्टिस, ऑपरेशन कर रहे है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Opponents of the private pathology lab running on the name of government doctor