DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  मेरठ  ›  बूढ़ी मां को लावारिस छोड़ा, पुलिस ने ढूंढ निकाला बेटा
मेरठ

बूढ़ी मां को लावारिस छोड़ा, पुलिस ने ढूंढ निकाला बेटा

हिन्दुस्तान टीम,मेरठPublished By: Newswrap
Wed, 26 May 2021 03:51 AM
बूढ़ी मां को लावारिस छोड़ा, पुलिस ने ढूंढ निकाला बेटा

मां ने जिस बेटे को कोख में नौ माह रखकर खून से सींचा और बुढ़ापे का सहारा माना, उसी ने बूढ़ी मां को सड़कों पर लावारिस छोड़ दिया। जिस बेटे को हल्का सा बुखार आया तो मां पूरी रात नहीं सो पाती थी। उसी बेटे ने बीमार मां को शहर में भटकने के लिए छोड़ दिया और खुद आराम से सो गया। शुक्र रहा कि मेरठ पुलिस को बूढ़ी मां मिल गई और पांच घंटे मशक्कत के बाद पुलिस ने आरोपी बेटे का पता खोज निकाला। पुलिस ने बेटे को बुलाया और इसके बाद पुलिस जीप में ही बूढ़ी मां को घर छुड़वाया। युवक को हिदायत दी कि रोजाना मां की सेल्फी पुलिस को भेजेगा। कोई अनहोनी हुई या दोबारा ऐसी हरकत हुई तो पुलिस अपनी ओर से मुकदमा दर्ज कर देगी।

संभल के ढवारसी निवासी ओमप्रकाश सक्सेना सेल-टैक्स विभाग में क्लर्क थे। उनकी मौत के बाद पत्नी सत्यवती देवी को पेंशन मिलती है। बेटा मनोज सक्सेना यहां मेरठ में जॉब करता है। मां सत्यवती देवी बेटे के पास ही थी। नौचंदी इंस्पेक्टर प्रेमचंद शर्मा ने बताया कि बेटे मनोज ने मंगलवार दोपहर के समय अपनी मां सत्यवती देवी को सोहराब गेट बस अड्डे पर लावारिस छोड़ दिया था। शाम के समय पुलिस को बुजुर्ग महिला के बारे में कुछ स्थानीय कर्मियों की ओर से सूचना दी गई। पुलिस मौके पर पहुंची। आसपास के कुछ सीसीटीवी की मदद से छानबीन शुरू की कई। महिला से बातचीत की गई, लेकिन कुछ खास पता नहीं चल सका। सत्यवती देवी के पास से कोरोना वैक्सीन लगाए जाने का एक कार्ड मिल गया। इसी पर उनका नाम और आयु के साथ पता भी दर्ज था। इसके बाद पुलिस ने छानबीन शुरू की।

बेटे ने बंद किया मोबाइल

इंस्पेक्टर प्रेमचंद शर्मा ने बताया कि वैक्सीनेशन कार्ड के ऊपर जो मोबाइल नंबर दर्ज था, पुलिस ने उस नंबर पर बात की। दूसरी ओर से मनोज ने फोन उठाया। सवाल किया कि मां को लावारिस क्यों छोड़कर गए और मौके पर बुलाया गया। मनोज ने कुछ समय में पहुंचने की बात कही और इसके बाद मोबाइल नंबर स्विच ऑफ कर लिया। इसके बाद पुलिस ने कार्ड पर दर्ज पते बी-19 रामापुरम शास्त्रीनगर में फैंटम भेजी। यहां पता चला कि पूर्व में मनोज यहां पर रहता था। मनोज के पूर्व मकान मालिक ने रात को पुलिस के साथ अपने बेटे को भेजा और मनोज के प्रवेश विहार स्थित मकान का पता निकाला गया। इसके बाद पुलिस ने मनोज को घर पर ही पकड़ लिया।

पुलिस को एक बुजुर्ग महिला लावारिस मिली थी। थाना पुलिस ने महिला के परिजनों का पता काफी मशक्कत के बाद खोज निकाला। बेटे ने ही मां को लावारिस छोड़ा था। बेटे को चेतावनी दी गई है। अम्मा को फिलहाल घर भिजवाया गया है। यदि अम्मा परेशान हुई और उन्होंने शिकायत की तो बेटे-बहू पर मुकदमा दर्ज कर जेल भेज देंगे।

-अजय साहनी, एसएसपी मेरठ।

संबंधित खबरें