NAD ID student - नेड आईडी के फेर में कॉलेजों से कैंपस तक भटके छात्र DA Image
11 दिसंबर, 2019|12:24|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नेड आईडी के फेर में कॉलेजों से कैंपस तक भटके छात्र

नेशनल एकेडमिक डिपॉजिटरी (नेड) आईडी बनाने और इसे जमा करने के लिए में मेरठ-सहारनपुर मंडल के नौ जिलों के स्टूडेंट बुधवार को कॉलेजों से कैंपस तक भटकते रहे। निर्धारित वेबसाइट पर आईडी नहीं बनाने पर कॉलेजों ने छात्रों का कैंपस भेज दिया और कैंपस में इसके लिए कोई सहायता केंद्र नहीं था। छात्र दिनभर इधर से उधर भटकते रहे। कॉलेजों में बुधवार शाम पांच लाख स्टूडेंट में से केवल 20 हजार ही अपने रजिस्ट्रेशन करा पाए हैं। फिलहाल छात्रों को परेशान होने की जरुरत नहीं है। विवि आईडी बनाने की अंतिम तिथि बढ़ाने जा रहा है। विवि ने कॉलेजों से सभी छात्र-छात्राओं के प्रिंट आउट जमा करने के निर्देश दिए हैं। भले ही छात्र ने दूसरी वेबसाइट पर ही क्यों ना रजिस्ट्रेशन कराया हो।

नौ जिलों के कॉलेजों में बुधवार को कॉलेजों में बुरा हाल रहा। कॉलेजों को कोई स्पष्ट निर्देश नहीं थे। ऐसे में स्टूडेंट की मुश्किलें और बढ़ गईं। विवि ने स्टूडेंट को चार दिसंबर तक आईडी बनाने के आदेश दिए थे। चूंकि आईडी बनानी जरुरी है और कहीं भी कुछ स्पष्ट नहीं है। ऐसे में स्टूडेंट कॉलेज, कैंपस और साइबर कैफों पर मारे-मारे फिर रहे हैं। विवि के अनुसार पंजीकृत सभी पांच लाख स्टूडेंट को यह आईडी बनानी है और इसके प्रिंट आउट कॉलेजों में जमा होने हैं। कॉलेज ये फॉर्म कैंपस में जमा कराएंगे। विवि के वेरीफिकेशन के बाद यह आईडी एक्टिवेट होगी। वहीं, बुधवार को रजिस्ट्रेशन के लिए निर्धारित आईडी हैंग हो गई। ऐसे में छात्र रजिस्ट्रेशन नहीं कर सके।

दूसरे पोर्टल पर बनी आईडी भी मान्य

मेरठ। चौ.चरण सिंह विवि के सभी पंजीकृत छात्र-छात्राओं को https://cvl.nad.co.in पर ही अपना रजिस्ट्रेशन करते हुए आईडी बनानी है। इसके पीछे मुख्य कारण है कि सीसीएसयू का इसी एजेंसी के साथ टाइअप है। पंजीकरण के बाद छात्रों को आईडी मिलेगी जो दर्ज ईमेल पर आएगी। छात्रों को इसका प्रिंट आउट लेकर संबंधित कॉलेज में जमा करना है। छात्र इस आईडी को अपने पास भी सुरक्षित रखें। चूंकि उक्त वेबसाइट हैंग चल रही है, ऐसे में साइबर कैफे और स्टूडेंट ने अपने स्तर से https://nad.ndml.in पर भी रजिस्ट्रेशन करा लिए। इस पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन कराने के बाद छात्रों को आईडी के बजाय एक्नॉलेजमेंट नंबर मिल रहा है। विवि के अनुसार छात्रों को केवल सीवीएल वाली वेबसाइट पर ही रजिस्ट्रेशन कराना है, लेकिन यदि स्टूडेंट ने दूसरी वेबसाइट पर अपनी आईडी बना ली है तो वे भी अपना प्रिंट आउट संबंधित कॉलेज में जमा कर दें। हालांकि आगे से स्टूडेंट एनडीएमएल पर अपना रजिस्ट्रेशन ना करें।

कॉलेज दोनों वेबसाइट के प्रिंट आउट जमा करें

मेरठ। विवि के अनुसार छात्र उक्त दोनों वेबसाइट पर पंजीकरण के बाद जो भी प्रिंट आउट लेकर आ रहे हैं कॉलेज उनके प्रिंट आउट जमा करेंगे। कैंपस में छात्रों के ये प्रिंट आउट सीधे जमा नहीं होंगे। कॉलेज इन स्टूडेंट के प्रिंट आउट उनकी सूची निर्धारित फॉर्मेट में कैंपस जमा करेंगे। कैंपस में आईडी प्रिंटआउट जमा करने का अधिकार केवल कॉलेजों को है। विवि के अनुसार कॉलेज छात्रों को कैंपस नहीं भेजें बल्कि अपने यहां इसे जमा करें। जिन छात्रों ने एनडीएमएल वेबसाइट पर अपने रजिस्ट्रेशन करा दिए हैं, विवि उन्हें अपने स्तर से सीवीएल पर ट्रांसफर करेगा। ऐसे में छात्र और कॉलेज दोनों को परेशान होने की जरुरत नहीं है।

80 फीसदी सटूडेंट के पास अपनी ईमेल आईडी नहीं

मेरठ। विवि में पंजीकृत पांच लाख स्टूडेंट में से 80 फीसदी यानी चार लाख स्टूडेंट के पास अपनी ईमेल आईडी नहीं है। इन सभी ने साइबर कैफे की आईडी दर्ज की है। विवि पूर्व में सभी पंजीकृत छात्रों की नेड आईडी अपने स्तर से जनरेट करना चाहता था, लेकिन ईमेल आईडी के चलते यह योजना बदलनी पड़ी। चूंकि छात्र के सभी रिकॉर्ड भविष्य में नेड आईडी पर अपलोड होंगे, ऐसे में ईमेल और मोबाइल दोनों छात्र के ही होने चाहिए। इसी क्रम में विवि छात्रों से नेड आईडी बनवा रहा है। बाद में प्रिंट आउट से विवि इस आईडी को अपने स्तर से एक्टिवेट करेगा।

नेड आईडी के लिए काम की बातें

-----------------------

-छात्र अपनी आईडी केवल https://cvl.nad.co.in पर ही बनाएं।

-https://nad.ndml.in पर आईडी मान्य नहीं है, लेकिन जिनकी बन गई है वह जमा की जा सकेंगी।

-आईडी बनाने में छात्र केवल अपना मोबाइल और ईमेल ही प्रयुक्त करें। साइबर कैफे की ईमेल या मोबाइल नंबर प्रयुक्त ना करें।

-चूंकि इस आईडी पर छात्रों के एकेडमिक डॉक्यूमेंट अपलोड होने हैं। ऐसे में ईमेल और मोबाइल नंबर छात्र का ही होना चाहिए।

-कॉलेजों को ही छात्रों के प्रिंट आउट जमा करने हैं। कैंपस में सीधे कोई फॉर्म जमा नहीं किया जाएगा।

-कॉलेज https://nad.ndml.in पर बनी आईडी को प्रिंट आउट जमा करते हुए विवि को बताएंगे।

-अंतिम तिथि बढ़ाने के आदेश आज जारी होने की उम्मीद हैं। ऐसे में छात्र परेशान ना हों।

-साइबर कैफे भी छात्रों की नेड आईडी केवल https://cvl.nad.co.in ही बनाएं।

----------------------

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:NAD ID student