DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › मेरठ › बच्चों को जकड़ रहा रहस्यमयी बुखार, मलेरिया-डेंगू के सबसे ज्यादा केस कंकरखेड़ा क्षेत्र में मिले
मेरठ

बच्चों को जकड़ रहा रहस्यमयी बुखार, मलेरिया-डेंगू के सबसे ज्यादा केस कंकरखेड़ा क्षेत्र में मिले

हिन्दुस्तान टीम,मेरठPublished By: Newswrap
Wed, 01 Sep 2021 04:02 AM
बच्चों को जकड़ रहा रहस्यमयी बुखार, मलेरिया-डेंगू के सबसे ज्यादा केस कंकरखेड़ा क्षेत्र में मिले

मेरठ। वरिष्ठ संवाददाता

जिले में लगातार मच्छर जनित रोगों का प्रकोप बढ़ता जा रहा है। मंगलवार को स्वास्थ्य विभाग के रिकार्ड में निजी अस्पताल की जांच रिपोर्ट में डेंगू के दो मरीज मिले हैं। अब जिले में डेंगू के मरीजों की संख्या सात हो गई है। सबसे ज्यादा डेंगू के पांच मरीज कंकरखेड़ा न्यू सैनिक विहार, फाजलपुर, डिफेंस एक्लेव, रामनगर, श्रद्धापुरी, यूरोपियन स्टेट, इसके अलावा दो मरीज लालकुर्ती, कुराली गांव में मिले हैं। स्वास्थ्य विभाग ने इन क्षेत्रों की निगरानी बढ़ा दी है। मलेरिया की टीम इन क्षेत्रों में एंटी लार्वा, फॉगिंग कर कंटेनर सर्वे कर रही है। इन क्षेत्रों में रहने वाले बुखार के मरीजों के सैंपल जांच को लिए जा रहे हैं। अभी तक जिले में जो डेंगू के मरीज मिले हैं इनमें एक महिला एवं छह पुरुष हैं।

टेम्प्रेचर समान्य फिर भी वायरल, डेंगू, मलेरिया

वायरल, मच्छर जनित रोग बच्चों समेत बड़ों को अपनी चपेट में ले रहे हैं। थर्मामीटर तक में टेम्प्रेचर समान्य आ रहा है। इसके बाद भी डेंगू, मलेरिया की पैथोलॉजी की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आ रही है। यही हाल वायरल इंफेक्शन के मरीजों का है। टेम्प्रेचर समान्य है पर थकान, शरीर में अकड़न, जोड़ों में दर्द की शिकायत है। चिकित्सकों का कहना है कि इस साल वायरल, मच्छर जनित रोगों के वायरस ने अपना स्वरूप बदल लिया है। मरीजों में लक्षण न के बराबर हैं। हिन्दुस्तान टीम ने मंगलवार को रहस्यमयी वायरल, डेंगू, मलेरिया रोगों की ओपीडी, अस्पताल में जांच लैब में पड़ताल की।

-------------------

आशा, आंगनबाड़ी करेंगी सर्वे

सीएमओ डॉ. अखिलेश मोहन ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग, संचारी रोग अभियान में लगी सभी टीमों को एक्टिव कर रहा है। मौसम की बीमारियों की रोकथाम के लिए सभी विभागों से संचारी रोग नियत्रंण की तरह सहयोग करने की विभाग ने अपील की है। बरसात के मौसम में मच्छर जनित रोग डेंगू, चिकिनगुनिया, मलेरिया के प्रसार को रोकने के लिए आशा, आंगनबाड़ी समेत हेल्थ वर्कर की डयूटी लगा दी है। टीमें घर-घर जाकर कंटेनर सर्वे, सॉर्स रिडक्टशन और लोगों को इन बीमारियों के प्रति जागरूक करेंगी। इस कार्य के लिए आशाओं को प्रोत्साहन राशि दी जाएगी।

अस्पताल, ओपीडी में अलर्ट

स्वास्थ्य विभाग, जिला प्रशासन ने मच्छर जनित रोगों के प्रकोप बढ़ने को लेकर अलर्ट जारी कर दिया है। मंडलीय सर्विलांस अधिकारी डॉ. अशोक तालियान ने बताया कि जिले के सभी सरकारी, निजी अस्पताल की ओपीडी में आने वाले मरीज जिनमें मच्छर जनित रोग, वायरल के लक्षण हैं उनकी जांच का एक सैंपल सरकारी जिला अस्पताल की लैब को जरूर दिया जाए। इसके अलावा जिन मरीजों को कोरोना की संभावना लगती है इनकी कोरोना जांच कराएं। स्वाइन फ्लू की जांच मेडिकल कॉलेज के माइक्रोबॉयोलॉजी लैब में शुरू कर दी है।

मेडिकल, जिला अस्पताल

मेडिकल, जिला अस्पताल में कई दिनों के बाद खुली ओपीडी में मरीजों की संख्या तीन हजार के पार पहुंच गई। जिला अस्पताल की ओपीडी में 12 सौ मरीज और मेडिकल में 22 सौ के पार पहुंच गई। इन मरीजों में सबसे ज्यादा मेडिसिन, बाल रोग विभाग के मरीज रहे। इनमें अधिकांश को वायरल फीवर, अकड़न, शरीर में दर्द और थकान की शिकायत आम थी। इनमें से अधिकांश मरीजों की कोरोना, मच्छर जनित रोगों की जांच करने की सलाह दी गई है। मेडिकल के मेडिसिन विभाग के चिकित्सक डॉ. तुंगवीर सिंह आर्य और बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. विजय जायसवाल ने बताया कि मच्छर जनित रोग बढ़ने की वजह से इनके लक्षणों को लेकर सतर्कता बढ़ा दी गई है।

------------------------

कोरोना अपडेट : 4262 सैंपल की जांच में कोई नहीं मिला संक्रमित

मेरठ। जिले में मंगलवार को 4262 कोरोना सैंपल की जांच में कोरोना का कोई नया मरीज संक्रमित नहीं मिला है। अब कोरोना के पांच मरीज अस्पताल में भर्ती हैं, जिनका इलाज चल रहा है। सर्विलांस अधिकारी डॉ. अशोक तालियान बताया कि जिले में एक्टिव केस की संख्या आठ और होम आईसोलेशन मरीजों की संख्या दो हो गई है। जिले में अब एक मरीज ब्लैक फंगस का इलाज चल रहा है।

--------------

कोरोना अपडेट

नए मामले - कोई नहीं

सैंपल की जांच हुई - 4262

कोरोना पॉजिटिव मौत - कोई नहीं

कोरोना एक्टिव केस - 8

होम आइसोलेशन -2

अस्पताल में भर्ती मरीज - 5

मरीजों की छुट्टी - कोई नहीं

संबंधित खबरें