DA Image
27 जनवरी, 2021|3:37|IST

अगली स्टोरी

मेरठ : पावरलूम को मिलेगी फ्लैट रेट पर बिजली, बुनकरों के चेहरे खिले

default image

बुनकरों की फ्लैट रेट पर बिजली की मांग पूरी होती नजर आ रही है। बुधवार को लखनऊ में बुनकरों प्रतिनिधियों की कपड़ा एवं निर्यात मंत्री तथा प्रमुख सचिव के साथ वार्ता की। इसमें तीन प्रस्ताव सरकार की ओर से बुनकर प्रतिनिधियों के सामने रखे। यानि रैपियर मशीन और पावरलूम के लिए सरकार बिदली दर तय करने जा रहे है। जो फ्लैट रेट पर ही बुनकरों को बिजली मिलेगी। कपड़ा मंत्री हालांकि इसे मुख्यमंत्री और ऊर्जा मंत्री के साथ बैठक के बाद फाइनल करेंगे।

फिलहाल मांग पूरी होते देख बुनकरों में खुशी है। बुनकर प्रतिनिधि मतीन अंसारी का कहना है कि प्रदेश भर के बुनकर एकजुट होकर सरकार से मांग कर रहे थे कि पावरलूम के लिए फ्लैट रेट पर बिजली दी जाए। बताया कि खादी ‌भ‌वन लखनऊ में बुधवार को बुनकर प्रतिनिधियों की वार्ता कपड़ा मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह और प्रमुख सचिव रमा रमण से हुई है। उन्होंने सरकार की ओर से तीन कैटेगरी के साथ बिजली रेट का प्रस्ताव रखा। इस पर बुनकरों ने अपने सुझाव दिए। जिस पर तय हुआ कि मुख्यमंत्री और ऊर्जा मंत्री के साथ बैठक के बाद ही अंतिम निर्णय लिया जाएगा।

अब तीन कैटरी होगी : बुनकर प्रतिनिधियों की माने तो अब बुनकरों को फ्लैट रेट पर बिजली मिल जाएगी, इसे लेकर वह आश्वसत है। सरकार इसकी तीन कैटेगिरी करेगी।

सरकार की ओर से आया प्रस्ताव : बैठक में सरकार की ओर से प्रस्ताव रखा गया। इसमें बताया गया कि यदि पांच किलोवाट से कम के कनेक्शनधारी है तो आधा हार्सपावर का शुल्क 500 रुपये और एक हार्सपावर का शुल्क एक हजार रुपये होगा। पांच किलोवाट से अधिक का कनेक्शन है तो आधा हार्सपावर का रेट 750 रुपये और एक हार्सपावर का रेट 1500 रुपये होगा। रैपियर मशीन दो हजार रुपये प्रति मशीन चार्ज लिया जाएगा। सहायक उपकरणों में दो हार्सपावर तक को शामिल किया है। साथ ही कह कि जिनका सर्वे हो चुका है, उनका सर्वे नहीं होगा, लेकिन जिनका सर्वे नहीं हुआ उनका सर्वे करके बिजली और कपड़ा विभाग के अधिकारी पासबुक बनाएंगे।

बुनकरों ने यह भी कहा : बुनकरों ने कहा कि पांच किलोवाट से अधिक का अलग रेट रखते है तो बुनकरों को चोरी के लिए मजबूर करेंगे, आश्वासन है कि मुख्यमंत्री और ऊर्जा मंत्री से मीटिंग करने के बाद जो इससे भी बेहतर रेट आएगा, जो सुझाव दिया है, उससे भी अच्छा रेट तय करके लागू कराएंगे। सभी जिलों के प्रतिनिधियों से बात करेंगे। बनारस से राकेश राय का नाम सुझाया गया है।

बुनकरों को सरकार को यह दिया सुझाव : पांच हार्स पावर से कम वाले लोगों तो आधा हार्स पावर का शुल्क 300 रुपये और एक हार्सपावर का शुल्क 600 रुपये चार्ज किया जाए। यह प्रस्ताव अरशद जमाल मऊ ने दिया था। दूसरा सुझाव था कि एक पांच हार्सपावर से अधिक का कनेक्शन है तो उसे 500 रुपये और एक हजार रुपये शुल्क किया जाए। रैपियर मशीन है उनका बिजली शुल्क 1500 रुपये हो। सहायक उपकरण के लिए दो हार्सपावर तक का कनेक्शन दे दिया जाए। इसी के साथ कहा गया कि पांच किलोवाट से अधिक का रेट अलग रखते है तो बुनकरों को बिजली चोरी करने के लिए मजबूर करेंगे।

यह बनी सहमति : कपड़ा मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने बुनकर प्रतिनिधियों को आश्वासन दिया है कि जो सरकार की ओर से प्रस्ताव दिया और बुनकरों ने उस पर जो सुझाव दिए। इसे लेकर वह मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा से बात करेंगे। कोई अच्छा रेट निकलेगा तो बुनकर प्रतिनिधियों से बात करके उसे लागू कराएंगे।

बुनकरों को सरकार राहत देगी : शहर विधायक रफीक अंसारी का कहना है कि लगातार बुनकरों के हक में आवाज उठा रहे है। विधान सभा में आवाज उठाई। सड़कों पर संर्घष किया। पिछले सप्ताह ही बैठक में बातचीत हुई थी। सरकार बुनकरों को राहत देंगे। बुनकरों के हकों और अधिकारों के लिए उनके साथ है। उधर, कांग्रेस नेता मतीन अंसारी ने कहा कि लगातार कांग्रेस प्रदेश प्रभारी प्रियंका गांधी और प्रदेशाध्यक्ष अजय कुमार लल्लू भी बुनकरों के हित में आवाज उठाते चले आ रहे थे। आम आदमी पार्टी के गौहर रजा सिद्दीकी, फारूक किदवई ने कहा कि उनकी पार्टी के प्रदेश प्रभारी सांसद संजय सिंह, पश्चिमी यूपी प्रभारी सोमेंद्र ढ़ाका समेत पूरी पार्टी आंदोलनरत है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Meerut powerloom will get electricity at flat rate weavers face blossoms