DA Image
29 जनवरी, 2020|2:46|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सर्राफा बाजार के मोस्ट वांटेड गिरफ्तार, पुलिस बनकर करते थे ठगी

default image

सर्राफा बाजार के मोस्ट वांटेड दो बदमाशों को पुलिस और व्यापारियों ने दबोच लिया। पुलिस की वर्दी पहनकर और खुद को पुलिस बताकर ये ठग सर्राफा व्यापारियों से कई बार लाखों की ठगी कर चुके हैं। गुरुवार को पुलिस इनके पीछे भागी तो दोनों आरोपी बाइक लेकर निकल भागे, लेकिन बारिश के कारण इनकी बाइक फिसल गई। ऐसे में कुछ व्यापारियों और पुलिस ने दोनों आरोपियों को दबोच लिया। इसके बाद जमकर पिटाई की गई, आरोपियों को थाने लाया गया। दोनों आरोपियों ने वेस्ट यूपी में कई वारदातों को कबूल किया है।

सर्राफा बाजार में एक गिरोह खुद को पुलिस, क्राइम ब्रांच और सेल-टैक्स विभाग का अधिकारी बताकर व्यापारियों से ठगी कर रहे थे। कभी चेकिंग के नाम पर तो कभी सामान देखने के नाम पर बाहर से आने वाले सर्राफ को रोकते थे और और इनका सोना पार कर देते थे। इन आरोपियों के कई फोटो मेरठ पुलिस के पास हैं। सर्राफा बाजार की हर गली और हर दुकान के बाहर इन फोटो के पोस्टर चस्पा किए हुए हैं। सर्राफा बाजार की सुरक्षा में लगी टीम के पास मोबाइल में इनके फोटो रहते हैं।

देहली गेट पुलिस की टीम सर्राफा बाजार में गुरुवार दोपहर गश्त कर रही थी। इसी दौरान बाइक पर दो संदिग्ध युवक दिखाई दिए। इन्होंने पुलिस जैसी जैकेट पहनी हुई थी। इन्हें पुलिसकर्मियों ने पहचान लिया और इन बदमाशों को पकड़ने के लिए दौड़ लगा दी। बदमाशों ने बाइक मोड़ ली और फरार होने का प्रयास किया। सिपाही आशु और कुलदीप बदमाशों की बाइक के पीछे दौड़े। बारिश हो रही थी, इसलिए कुछ दूर जाकर बदमाशों की बाइक फिसल गई। दोनों सड़क पर गिर गए और व्यापारियों ने इन्हें पकड़ लिया। जब दोनों को उठाया तो उनके चेहरे देखकर व्यापारी भी पहचान गए। व्यापारियों ने दोनों बदमाशों को जमकर पीटा। पुलिसकर्मियों ने दोनों आरोपियों को बचाया और थाने लेकर आए। आरोपियों की पहचान निसार पुत्र जाफर और अफरीदी पुत्र जहूर अली निवासी ठंडी सड़क, मेहंदी बाग कोतवाली देहात फर्रूखाबाद के रूप में हुई। दोनों ने पूछताछ में कबूल किया कि मेरठ, मुजफ्फरनगर और वेस्ट यूपी में कई जगहों पर दो दर्जन से ज्यादा वारदात अंजाम दे चुके हैं। इनके खिलाफ देहली गेट थाने में मुकदमा दर्ज कराया गया है।

----

दो बदमाशों को पकड़ा गया है, जो पुलिस बनकर या किसी अन्य विभाग के अधिकारी बनकर सर्राफा व्यापारियों से सोना ठग लेते थे। इनके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है - अखिलेश नारायण सिंह, एसपी सिटी मेरठ।