DA Image
25 जनवरी, 2020|2:34|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पेटीएम के फास्टैग नहीं हुए स्कैन, परेशान रहे लोग

default image

सिवाया टोल प्लाजा पर कैश लाइनों में जाम से राहत नहीं मिल रही है। गुरुवार सुबह से लेकर देर रात तक कैश लाइनों में वाहनों की कतार लगी रही। जाम के दौरान फास्टैग लाइन खाली रही। पेटीएम के फास्टैग स्कैन नहीं होने के कारण समस्या और विकट हो गई। वाहन सवारों को परेशानी का सामना करना पड़ा। जबकि टोल प्लाजा पर प्रतिदिन गुजरने वाले वाहनों की संख्या भी घटकर आधी रह गई है।

बुधवार से टोल प्लाजा की 10 लाइनों में फास्टैग और दो लाइनों में कैश से टैक्स लेने की व्यवस्था शुरू कर दी गई। व्यवस्था आरंभ होते ही कैश लाइनों में वाहनों की लंबी कतार लगने के साथ भीषण जाम लग गया। गुरुवार को भी कैश लाइनों में जाम से राहत नहीं मिली। सुबह से देर रात तक कैश लाइनों में जाम रहा। पेटीएम के फास्टैग स्कैन नहीं होने कारण टैक्स वसूली में परेशानी होने के साथ जाम लग गया। टोल मैनेजर प्रदीप चौधरी के अनुसार बुधवार सुबह छह बजे से गुरुवार की सुबह छह बजे तक तक टोल प्लाजा पर फास्टैग द्वारा 7000 और कैश द्वारा 3129 वाहनों से टैक्स की वसूली की गई। प्रदीप चौधरी की मानें तो औसतन प्रतिदिन टोल प्लाजा से 18 से 20 हजार वाहन गुजरते हैं, लेकिन बुधवार को 10 लाइनों में फास्टैग लागू करते ही वाहनों की संख्या में रिकार्ड कमी दर्ज की गई है।

-टेंपो और दुपहिया वाहनों के लिए बनेगी अलग लाइन

टोल प्लाजा की 1 और 12 नंबर लाइनों से कैश लेने के दौरान टेंपो व दुपहिया वाहनों को निकलने में परेशानी का सामना करना पड़ा। परेशानी को देखते हुए टोल प्रबंधन ने दुपिहया व टेंपो को निकालने के लिए टोल प्लाजा के दोनों ओर कैश लाइन के बराबर में एक्स्ट्रा लाइन बनाने की योजना बनाई, जिससे इन वाहन सवारों का आवागमन सुगम होगा।

-फास्ट स्कैन और रिचार्ज नहीं होना बना मुख्य समस्या

टोल प्लाजा पर कैश लाइनों में जहां जाम परेशानी का सबब बना हुआ है। वहीं फास्टैग लाइनों में फास्टैग रिचार्ज व स्कैन नहीं होना परेशानी का कारण बन गया। टोल मैनेजर प्रदीप चौधरी की माने तो फास्टैग लाइन में गुजरने वाले वाहनों पर लगे अधिकतर फास्टैग रिचार्ज नहीं होने के कारण मशीन ब्लैक लिस्ट बताता है ओर वाहन लाइन में फंस जाते हैं, जिसके चलते जाम लग जाता है। मैनेजर की मानें, तो मुख्य रूप से पेटीएम और एक्सिस बैंक के फास्टैग में समस्या सामने आ रही है।

24 कंपनियां बेच रही फास्टैग

15 दिसंबर से देशभर के टोल प्लाजा पर फास्टैग लागू कर दिया गया था। टोल प्लाजा पर कैंप लगाने के साथ और ऑनलाईन माध्यम से एक्सिस बैंक, आईसीआईसीआई, आईडीएफसी, स्टेट बैंक ऑफ इंडिया एचडीएफसी, पेटीएम, सिंडीकेट बैंक, फैडरल बैंक, पंजाब एंड महाराष्ट्र कॉर्पोरेशन बैंक, सिटी यूनीयन बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा, यस बैंक, एयरटेल पेमेंट बैंक, आईएचएमसीएल सहित 24 कंपनिया फास्टैग बेच रही हैं, लेकिन इसके बाद भी टोल प्लाजा पर 100 प्रतिशत फास्टैग का आंकड़ा सपना बना हुआ है।

फास्टैग व्यवस्था लागू होने के साथ ट्रैफिक घट गया है। पिछले 24 घंटे में फास्टैग द्वारा 7000 जबकि कैश द्वारा 3129 वाहनों से टैक्स वसूली की गई है। करीब 3000 वाहन एग्जेंप्ट हुए है। दुपिहया व टेंपो संचालन के लिए अलग से दो लाइनों को बनाया जाएगा। देशभर में 24 कंपनियां विभिन्न माध्यम से फास्टैग बेच रही है। सिवाया टोल प्लाजा पर गुरुवार तक लगभग 12,500 फास्टैग बेचे जा चुके हैं।

-प्रदीप चौधरी, मैनेजर सिवाया टोल प्लाजा