ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेश मेरठआईएसआईएस के झंडे भी लहराए गए?

आईएसआईएस के झंडे भी लहराए गए?

शांति मार्च के दौरान आईएसआईएस के झंडे लहराए जाने का आरोप लगाते हुए भाजपा नेताओं ने पुलिस-प्रशासन से शिकायत की है। इसकी वीडियो भी जारी कर दी गई है। इंटेलीजेंस से शिकायत की है। आरोप लगाया है कि ये देश...

आईएसआईएस के झंडे भी लहराए गए?
Newswrapहिन्दुस्तान टीम,मेरठMon, 01 Jul 2019 02:14 AM
ऐप पर पढ़ें

शांति मार्च के दौरान आईएसआईएस के झंडे लहराए जाने का आरोप लगाते हुए भाजपा नेताओं ने पुलिस-प्रशासन से शिकायत की है। इसकी वीडियो भी जारी कर दी गई है। इंटेलीजेंस से शिकायत की है। आरोप लगाया है कि ये देश विरोधी गतिविधियों में शामिल एक संगठन का झंडा है। आरोप लगाया कि इस पूरे मार्च के पीछे इसी तरह की ताकतों का हाथ है। ऐसे में इस पूरे मामले में जांच होनी चाहिए और कार्रवाई कराई जानी चाहिए।

मॉब लिंचिंग के विरोध में निकाले गए शांति मार्च को लेकर आरोप-प्रत्यारोप लगाए जा रहे हैं। साजिश की आशंका भी जताई है। दरअसल, जूलुस में शामिल कुछ युवक तिरंगे के साथ सफेद और काले रंग की पट्टी वाला झंडा लेकर आए थे। इस तरह के झंडे लेकर सैकड़ों युवकों ने उत्पात मचाया था। इसकी वीडियो और फोटो अब सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं। इसी दौरान लहराए गए कुछ काले-सफेद रंग के झंडों को आईएसआईएस संगठन का बताया गया है। भाजपा नेताओं ने इस मामले में पुलिस-प्रशासन से शिकायत की है। बताया है कि ये झंडा कुछ युवक लेकर आए और तिरंगे के साथ लहराया। धार्मिक नारे लगाते हुए माहौल बिगाड़ने और शहर को बड़े विवाद की ओर ले जाने की साजिश की गई थी। इस पूरे मामले इंटेलीजेंस और आईबी अधिकारियों को भी वीडियो भेजी गई है। आरोप लगाया है कि वेस्ट यूपी और बाकी कुछ राज्यों में आईएसआईएस के आतंकी शरण लिए हुए हैं। इस जुलूस में भी इसी संगठन के जुड़े लोग शामिल रहे हैं। साजिश के तहत पूरे जुलूस को निकाला गया और बड़ी साजिश को अंजाम देने की योजना था। इस मामले में कुछ वीडियो भी अधिकारियों को दी गई है। पुलिस अधिकारियों ने इस मामले में जांच के बाद ही सही बात पता चलने की बात कही है। वहीं दूसरी ओर जानकारों की मानें तो ये जमियत उलेमा का झंडा बताया जा रहा है। हालांकि इस मामले में जांच की जा रही है।

epaper