meerut news - कब्रिस्तानों की चाहरदीवारी की होगी उच्च स्तरीय जांच, टीम का गठन DA Image
21 फरवरी, 2020|11:42|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कब्रिस्तानों की चाहरदीवारी की होगी उच्च स्तरीय जांच, टीम का गठन

कब्रिस्तानों की चाहरदीवारी के मामले में भ्रष्टाचार के आरोप लगाते हुए मेरठ निवासी काजी शादाब की शिकायत को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गंभीरता से लिया है। शिकायत के आधार पर जांच बैठा दी गई। जांच कमेटी में लखनऊ मुख्यालय के अफसरों को शामिल किया और जांच के आदेश दे दिए। मेरठ से भारतीय उद्योग विकास व्यापार मंडल के प्रदेश अध्यक्ष काजी शादाब ने मुख्यमंत्री से की शिकायत में पूर्व कैबिनेट मंत्री आजम खां को आरोपों के दायरे में लिया था। शिकायत में कहा गया था कि पिछली सरकार में उत्तर प्रदेश जल निगम की कार्यदायी संस्था यूपी सीएंडडीएस के माध्यम से सरकारी ठेकों में बंदरबांट हुई थी। जो जांच का विषय है। कार्यों में भ्रष्टाचार की बूं आ रही है। आरोप लगाया कि ठेकेदारों से सात प्रतिशत तक कमीशन वसूला गया। निर्माण कार्यों में गुणवत्ता का कोई ध्यान नहीं रखा गया। शिकायत में कहा गया था कि पूरे प्रदेश के कब्रिस्तानों की चाहरदीवारों पर अरबों-खरबों रुपया खर्च किया गया। वह भी इसी कार्यदायी संस्था ने कार्य किए। इन कार्यों में भी करोड़ों के बंदरबाट और सरकारी धन के दुरूपयोग की आशंका जताते हुए उच्च स्तरीय जांच की मांग की गई थी। इस मामले में मुख्यमंत्री के निर्देश पर जांच बैठ गई। यह जानकारी प्रभारी जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी मोहम्मद तारिक ने शिकायतकर्ता को पत्र भेजकर जानकारी दी। काजी शादाब ने बताया कि उन्हें दी गई जानकारी के मुताबिक जांच टीम में लखनऊ के अफसरों को शामिल किया गया है। टीम ही शिकायत के आधार पर पूरे प्रदेश में जांच करेगी।