mahamandal vidhan in meerut - णमोकार महामंत्र अर्चना संग नंदीश्वर महामंडल विधान का समापन DA Image
21 नवंबर, 2019|7:19|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

णमोकार महामंत्र अर्चना संग नंदीश्वर महामंडल विधान का समापन

णमोकार महामंत्र अर्चना संग नंदीश्वर महामंडल विधान का समापन

शुक्रवार से त्यागी हॉस्टल में चल रहा नन्दीश्वर द्वीप महामंडल विधान का रविवार को णमोकार महाअर्चना संग भक्तिभाव से समापन हो गया। पिच्छिका परिवर्तन समारोह का आयोजन हुआ। आचार्य वसुनन्दी मुनिराज को विनयांजलि अर्पित कर मुनि जिनानंद ने अपने दीक्षा समारोह के उपरांत संतों सान्निध्य एवं प्रभावना पर मधुर व्याख्यान दिया। उन्होंने कहा कि अनेकों पुण्यों के उदय से समाज को साधु की संगति प्राप्त होती है। साधु सान्निध्य प्राप्त करके मानव सन्मार्ग का अनुशासन करता है। समारोह के बाद आचार्यश्री का ससंघ सरधना के लिए मंगल विहार हो गया।

आचार्यश्री ससंघ के सान्निध्य में सुबह बैंड बाजों के साथ श्री शांतिनाथ भगवान की प्रतिमा को पांडुक शिला पर विराजमान कर जलभिषेक कराया गया। शांतिधारा का सौभाग्य अमित जैन, विपिन जैन, प्रिंस जैन, अंकुर जैन परिवार को मिला। नव देवताओं की पूजा की गई और णमेाकार महामंत्र अर्चना के 24 श्री फल इंद्रों ने मांडले पर बड़े भक्तिभाव से चढ़ाए। सांसद राजेंद्र अग्रवाल, बिजेंद्र अग्रवाल ने आचार्यश्री को श्रीफल चढ़ाकर आशीर्वाद प्राप्त किया और समाज द्वारा पगड़ी और माला पहनाकर स्वागत किया।

आचार्य श्री का पाद प्रक्षालन का सौभाग्य प्रमोद जैन, कौस्तुभ जैन एडवोकेट व अजय जैन परिवार को मिला। चित्र अनावरण सांसद राजेंद्र अग्रवाल एवं बाहर से अतिथियों ने किया और शास्त्र भेंट का सौभाग्य पुण्य प्रभावना मंच को मिला। वेस्टर्न कचहरी रोड स्थित असौड़ा हाउस में चातुर्मास के अंतर्गत साधनारत आचार्य वसुनंदी मुनिराज के सुयोग्य शिष्य मुनिश्री जिनानंद, मुनि पुण्यानंद एवं विशंक सागर का परम पूज्य आचार्य वुसनंदी मुनिराज के ससंघ सान्निध्य त्रिदिवसीय नंदीश्वर महार्चना णमोकार महार्चना एवं वर्षा योग निष्ठापन के साथ ही पिच्छिका परविर्तन समारोह का आयोजन रविवार को हुआ। त्यागी हॉस्टल में आयोजित समारोह सानंद सम्पन्न हुआ।

मुनिराज एवं क्षुल्लक के लिए आचार्यश्री के कमलों में भक्ति नृत्य करते हुए नवीन पिच्छिका भेंट की। क्षुल्लक विशंक सागर महाराज की पुरानी पिच्छिका पाने का सौभाग्य राजीव जैन सदर, मुनि पुण्यानंद की पुरानी पिच्छी पाने का सौभाग्य आदित्य जैन को हुई। मुनि जिनानंद का 8वां दीक्षा समारोह भी भक्तिभाव से सम्पन्न हुआ। मुनिरराज ने गुरुदेव के चरणों में भाव भीनी विनयांजलि अर्पित की। उन्होंने कहा कि अनेकों पुण्यों के उदय से समाज को साधु की संगति प्राप्त होती है।

साधु सान्निध्य प्राप्त करके मानव सन्मार्ग का अनुशासन करता है। इसके बाद आचार्यश्री ने संपूर्ण समाज को मंगलमय आशीर्वाद प्रदान किया। मुनि संघ प्रवक्ता सुनील जैन ने बताया कि आचार्य श्री वसुनंदी महाराज ससंघ का मंगल विहार तीसरे प्रहर तीन बजे सरधना के लिए हो गया। कार्यक्रम में सुभाश जैन, योगेश जैन, विपिन जैन, शशांक जैन, सुनील जैन, अजय जैन, कपिल जैन, नमन जैन शौर्य जैन, मनोज जैन, रमेश जैन, संजय जैन, शुभम जैन, उमेश जैन, मयंक जैन आदि रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:mahamandal vidhan in meerut