ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेश मेरठ रजवाहे व माईनरों की सफाई की जांच लखनऊ टीम 11 को करेगी

रजवाहे व माईनरों की सफाई की जांच लखनऊ टीम 11 को करेगी

रजवाहे व माईनरों की सफाई की जांच लखनऊ टीम 11 को करेगी

 रजवाहे व माईनरों की सफाई की जांच लखनऊ टीम 11 को करेगी
हिन्दुस्तान टीम,मेरठWed, 06 Dec 2023 07:55 PM
ऐप पर पढ़ें

सिंचाई विभाग ने कुल 704 किमी. रजवाहे व माईनरों का सफाई का काम पूरा कर लिया है। उम्मीद है कि सफाई कार्य की जांच करने लखनऊ से टीम 11 दिसम्बर को आयेंगी। इस कारण किसानों को 12 दिसम्बर तक खेतों की सिंचाई के लिए पानी मिल सकेगा। सफाई कार्यों के चलते डेढ़ महीने बाद क्षेत्र के लाखों किसानों को सिंचाई के लिए पानी मिल सकेगा।

अनूपशहर गंग नहर डिवीजन चार जिलों में फैला हुआ है। इनमें मेरठ, हापुड़, मुजफ्फरनगर व बुलंदशहर शामिल है। इन चारों जिलों में स्थित 410 किमी. रजवाहे व 207 किमी. माईनर और आठ क्यूसेक से कम पानी निकासी वाली 87 किमी.ओर माईनरों की सफाई का बजट शासन से करीब दो करोड़ से अधिक रुपये स्वीकृत हुआ है। रजवाहों व माइनरों की लम्बाई कुल 704 किमी. है। शासन से स्वीकृत बजट से सभी माइनरों की सफाई कराई गई, जबकि बजट के अनुसार 50 प्रतिशत रजवाहो की सफाई हुई है। अनूपशहर गंग नहर डिवीजन के अधिशासी अभियंता शेर सिंह बताते है कि इस साल शासन से 50 फीसदी रजवाहों की सफाई के लिए ही बजट जारी हुआ था।

उत्तराखंड रूड़की से बनाई गई बड़ी गंग नहर से मुजफ्फरनगर जिले के जौली गांव के पास से निकली अनूपशहर गंग नहर से जुड़े रजवाहे व माइनरों में प्रत्येक साल सिल्ट जमा हो जाती है। इस सिल्ट की सफाई के लिए 27 अक्टूबर 23 को रजवाहें व माइनरें बंद कर दी गई थी। इनकी सफाई का अभियान पांच दिसम्बर तक पूरा हो गया है। सिंचाई विभाग अनूपशहर गंग नहर खंड के अधिशासी अभियंता शेर सिंह बताते है कि शासन से मिले बजट के अनुसार सभी माइनरों की सफाई करा दी गई है, जबकि रजवाहों की सफाई 50 फीसदी हो सकी है। उन्होंने बताया कि रजवाहों व माइनरों की सफाई कार्य का निरीक्षण करने लखनऊ से टीम 11 दिसम्बर को आयेंगी। निरीक्षण के बाद ही रजवाहों व माइनरों में पानी छोड़ा जा सकेगा।

---------------

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें