DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  मेरठ  ›  वैक्सीनेशन के लिए गांव से शहर तक लंबी लाइन

मेरठवैक्सीनेशन के लिए गांव से शहर तक लंबी लाइन

हिन्दुस्तान टीम,मेरठPublished By: Newswrap
Tue, 25 May 2021 03:40 AM
लगातार जागरुकता का असर वैक्सीनेशन पर दिखने लगा है। 18-44 साल में वैक्सीन लेने के लिए जो उत्साह और लंबी लाइन 35 केंद्रों पर थी, वैसा ही उत्साह 45...
1 / 2लगातार जागरुकता का असर वैक्सीनेशन पर दिखने लगा है। 18-44 साल में वैक्सीन लेने के लिए जो उत्साह और लंबी लाइन 35 केंद्रों पर थी, वैसा ही उत्साह 45...
लगातार जागरुकता का असर वैक्सीनेशन पर दिखने लगा है। 18-44 साल में वैक्सीन लेने के लिए जो उत्साह और लंबी लाइन 35 केंद्रों पर थी, वैसा ही उत्साह 45...
2 / 2लगातार जागरुकता का असर वैक्सीनेशन पर दिखने लगा है। 18-44 साल में वैक्सीन लेने के लिए जो उत्साह और लंबी लाइन 35 केंद्रों पर थी, वैसा ही उत्साह 45...

लगातार जागरुकता का असर वैक्सीनेशन पर दिखने लगा है। 18-44 साल में वैक्सीन लेने के लिए जो उत्साह और लंबी लाइन 35 केंद्रों पर थी, वैसा ही उत्साह 45 प्लस में ग्रामीण क्षेत्र में रहा। 18-44 साल में मेरठ में 86.3 फीसदी लोगों ने वैक्सीन लगवाई जबकि 45 प्लस में ग्रामीण क्षेत्र में सर्वाधिक 80.4 फीसदी लोगों ने पहली डोज लगवाई। ग्रामीण क्षेत्र में अब तक का यह रिकॉर्ड वैक्सीनेशन है। ग्रामीण क्षेत्र के कई केंद्र ऐसे रहे जहां निर्धारित संख्या से दोगुने लोग पहुंचे और वैक्सीन लगवाई।

18-44 साल में 86.3 फीसदी ने ली डोज

मेरठ। 18-44 साल के लिए शहर में कुल 35 केंद्रों पर सोमवार को वैक्सीनेशन हुआ। सोमवार को 7750 लोगों ने वैक्सीन के लिए स्लॉट बुक कराए थे, लेकिन 6687 ने ही वैक्सीन लगवाई। यानी 86.3 फीसदी पंजीक़ृत लोगों ने वैक्सीनेशन कराया। 1063 लोग ऐसे रहे जिन्होंने स्लॉट तो बुक कराया, लेकिन वैक्सीन लगवाने के लिए केंद्र पर पहुंचने का समय नहीं मिला। ऐसे लोगों ने वैक्सीन के इंतजार में बैठे लोगों का मौका भी खत्म कर दिया। सोमवार को सभी केंद्रों पर कोविशील्ड की डोज दी गई।

गांव में कमाल, 80.4 फीसदी लगवाने पहुंचे वैक्सीन

मेरठ। सोमवार को ग्रामीण क्षेत्र में वैक्सीनेशन के लिए जबरदस्त उत्साह दिखा। मेरठ में ग्रामीण क्षेत्र के 35 केंद्रों पर 80.4 फीसदी लोगों ने वैक्सीन की पहली डोज ली। शहरी क्षेत्र के 22 केंद्रों पर मात्र 33.5 फीसदी लोगों ने ही पहली डोज ली। हालांकि शहरी क्षेत्र में वैक्सीनेशन कम रहने के पीछे मुख्य कारण यहां शुरुआती दौर में ही लोगों के वैक्सीन लगवाने से है। अभी तक ग्रामीण क्षेत्र में वैक्सीनेशन धीमी रफ़्तार से चल रहा था। सोमवार को ग्रामीण क्षेत्र में जिन केंद्रों पर सर्वाधिक वैक्सीनेशन हुआ उसमें मोहिद्दीमपुर, लतीफपुर, खरखौदा, सिवाल खास, अगवानपुर, परीक्षितगढ़, दुल्हैड़ा, फलावदा, निलोहा शामिल हैं। इसमें मोहिद्दमीपुर में 139, सिवाल खास में 130, खरखौदा में 133.3, परीक्षितगढ़ में 132, अगवानपुर में 210 और निलोहा में 252 फीसदी वैक्सीनेशन हुआ। लतीफपुर, दुल्हैड़ा और फलावदा में सौ फीसदी वैक्सीनेशन हुआ।

किसको कितना वैक्सीनेशन

वर्ग प्रथम डोज % सेकेंड डोज%

हेल्थ केयर वर्कर 100 73.2

फ्रंट लाइन वर्क 100 60.3

45 प्लस 39.8 20.5

18-44 साल 84.6 ----

----------------------------------------

-45 प्लस में लक्षित के साथ

लक्ष्मीकांत पहुंचे वैक्सीनेशन सेंटर, लगवाते मिले बाहरी

मेरठ। सोमवार को पूर्व विधायक डॉ.लक्ष्मीकांत वाजपेयी ने नगर निगम चिकित्सालय कोतवाली, आईएन इंटर कॉलेज पुरानी तहसील, प्यारेलाल शर्मा में आईसीयू एवं रेडक्रॉस और रैन बसेरा केंद्र का निरीक्षण किया। डॉ.वाजपेयी के अनुसार सभी केंद्रों पर मेरठ जिले के बाहर के लोग भी वैक्सीन लगवा रहे थे। केंद्रों से अन्य राज्य के लोगों को वापस किया गया। वाजपेयी के अनुसार शासन पहले ही यूपी के बाहर के लोगों का वैक्सीनेशन प्रतिबंधित कर चुका है। पूर्व विधायक के अनुसार 1.45 बजे तक अधिकांश लोग वैक्सीन लगवा चुके थे। वाजपेयी ने कमिश्नर और डीएम को पत्र भेजते हुए मेरठ के लोगों के लिए ही वैक्सीनेशन कराने की व्यवस्था लागू करने की मांग की। इसके लिए स्लॉट आवंटन में जिला एवं पिनकोड व्यवस्था लागू करने अथवा ऑनलाइन पंजीकरण एवं वैक्सीनेशन की सुविधा 45 प्लस की तरह ही केवल जिले के लोगों को ही देने की मांग की है।

संबंधित खबरें