khatha in radha govind mandap - श्री कृष्ण गोविंद हरे मुरारे... DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

श्री कृष्ण गोविंद हरे मुरारे...

श्री कृष्ण गोविंद हरे मुरारे...

राधा माधव जन कल्याण समिति की ओर से राधा गोविंद मंडप में चल रही श्रीमद्भागवत कथा के दूसरे दिन महामंत्र जाप का महत्व बताया गया। भजनों पर श्रद्धालु झूम उठे।

इस्कॉन अंर्तराष्ट्रीय कृष्णभावनामृत संघ वृंदावन से आए कथा व्यास श्रीशकृष्ण दास ने बताया कि भगवान की इच्छा से इस जगत का सृजन, पालन और संहार होता है। इस जगत के भीतर हर वस्तु भगवान के अधीन हैं। इस पूर्ण ज्ञान को प्राप्त करने के लिए मनुष्य को सदैव भगवान की भक्ति में लगे रहना चाहिए। महामंत्र हरे कृष्णा, कृष्णा-कृष्णा हरे हरे, हरे राम हरे राम, राम राम हरे हरे में ऐसी शक्ति है जो मनुष्य को आनंद तथा ज्ञान के आध्यात्मिक जगत में पहुंचा दे। भगवान कृष्ण ही परमेश्वर हैं जो हमारे ह्दय के भीतर रहते हैं। जीव को मनवांछित वस्तु देते हैं इसलिए मनुष्य को भगवान की दिव्य प्रेमाभक्ति, दिव्य लीलाओं का श्रवण तथा कीर्तन महामंत्र का जाप करते रहना चाहिए। महामंत्र ही कलियुग में भगवान की प्राप्ति का प्रबल साधन है। सतयुग में भगवान के ध्यान तप द्वारा, त्रेता में यज्ञ अनुष्ठान द्वारा, द्वापर में पूर्जा-अर्चना द्वारा जो फल मिलता था कलियुग में वह पुण्यफल श्री हरि के नाम संकीर्तन से मिलता है। मन बंधन से मुक्ति प्रदान करने वाला गोपीगीत श्री कृष्ण गोविंद हरे मुरारी हे नाथ नारायण वासुदेवा पर भक्त झूम उठे। इस मौके पर उपाध्यक्ष गोविंद दास, ईश्वर पुरी शिष्य दास, अनुपम कृष्णदास, हरिपाद आश्रय दास, वेदांत कृष्ण दास, विमल प्रभु, मनोहर गौर दास, सत्संग प्रेमी दास आदि रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:khatha in radha govind mandap