DA Image
15 जुलाई, 2020|9:30|IST

अगली स्टोरी

चुनौतियों से लड़ने को एक मंच पर आएं संस्थाएं

चुनौतियों से लड़ने को एक मंच पर आएं संस्थाएं

लॉकडाउन में न केवल पर्यावरण साफ हुआ बल्कि हवा और पानी भी निर्मल बना है। लॉकडाउन के बाद हमें हवा-पानी सहित पर्यावरण को इसी तरह साफ बनाए रखने के लिए काम करना होगा। इसके लिए जरूरी है कि सभी संस्थाएं एकजुट होकर काम करें। चुनौतियों से मिलकर निपटना होगा।

ग्लोबल सोशल कनेक्ट द्वारा कोरोना काल में अब क्या हों सामाजिक प्राथमिकताएं, किन समस्याओं पर पहले ध्यान दिया जाए और क्या हो उन्हें हल करने की रणनीति विषय पर हुई वेबिनार में उक्त बातें विशेषज्ञों ने कही। वेबिनार में भारत, सिंगापुर एवं मलेशिया के गुडविल एम्बेसडर गणेश सोमवंशी, सेंटर फार यूथ की अध्यक्षा अलका तोमर, लोक बिरादरी प्रकल्प की अध्यक्षा समीक्षा गोडसे और पेट्रोलियम विवि देहरादून के डीन केजी सुरेश शामिल हुए। वेबिनार में अर्थव्यवस्था, मानवीय पूंजी, पर्यावरण और पत्रकारिता पर विशेषज्ञों ने बात रखी। वक्ताओं ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान हवा, पानी एवं नदियां स्वच्छ हुई हैं। ग्लोबल वार्मिग में भी कमी आई है। जरूरत इस बात की है कि अब आगे इन्हें कैसे बरकरार रखा जाए। अर्थवयवस्था और मानवता एक दूसरे का सहयोग करते हैं, लेकिन कोरोना काल में दोनों पर गहरा आघात पहुंचा है। सवाल यह है कि इन्हें कैसे बचाया जाए।

विशेषज्ञों ने रोजगार सृजन, प्रवासी मजदूरों की देखभाल, शिक्षा व्यवस्था को सुचारू करना, गरीब तबके तक डिजिटल शिक्षा पहुंचाने, जरूरतमंद तक भोजन उपलब्ध कराने, पर्यावरण रक्षा और अर्थव्यवस्था को स्वावलम्बी बनाने जैसे मुद्दों पर काम करने का संकल्प लिया। ग्लोबल सोशल कनेक्ट उपाध्यक्ष अभिषेक शर्मा ने कहा कि अब हमें स्थानीय समस्याओं के स्थानीय समाधान खोजने होंगे। सचिव अमित गिरी ने कहा कि एकजुट होकर ही बेहतर समाधान ढूंढा जा सकता है। अध्यक्षा रिचा सिंह ने कहा कि ग्लोबल सोशल कनेक्ट समाज के उत्थान के लिए प्रतिबद्ध है। वेबिनार में जनहित फाउंडेशन से अनिता राणा, स्वच्छ भारत मिशन से प्रियंका सिंह और समाधान अभियान से अर्चना अग्निहोत्री सहित अनेक सामाजिक कार्यकर्ता शामिल रहे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Institutions come on a platform to fight challenges