DA Image
21 जनवरी, 2021|6:37|IST

अगली स्टोरी

एक हजार वाहनों के साथ निकाली अखंड भारत संकल्प यात्रा

एक हजार वाहनों के साथ निकाली अखंड भारत संकल्प यात्रा

हिन्दू जागरण मंच ने रविवार दोपहर एक हजार वाहनों के साथ अखंड भारत संकल्प यात्रा निकाली। इसमें हजारों की संख्या में मंच के कार्यकर्ता जुटे। दोपहर 12 बजे शुरू हुई यात्रा शहर के सभी मुख्य मार्गों से गुजरी। रास्ते में कई स्थानों पर यात्रा पर फूलों की बारिश भी की गई। बुढ़ाना गेट स्थित श्री सनातन धर्म धर्मेश्वर महादेव मंदिर पर भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष डॉ. लक्ष्मीकांत वाजपेयी ने यात्रा का स्वागत किया।

यात्रा मेरठ कॉलेज से शुरू होकर नैय्यर पैलेस, लालकुर्ती, जीरो माइल, बेगमपुल चौराहा, बच्चा पार्क, जिमखाना मैदान, बुढ़ाना गेट मंदिर, सोमवार की पैठ वाले रास्ते से होते हुए इंदिरा चौक चौराहा से एनएस इंटर कॉलेज, सरस्वती प्लाजा, मोहनपुरी नाले के साथ-साथ सूरजकुंड, बाबा मनोहरनाथ मंदिर, गांधी आश्रम चौराहा, पीवीएस मॉल से डोमिनोज के बराबर से एच ब्लॉक, आनंद नर्सिंग होम से हिन्दू जागरण मंच के महानगर कार्यालय अग्रवाल एसोसिएट्स पर संपन्न हुई।

नारों से गूंजती रही फिजा

हिन्दू जागरण मंच के प्रांतीय महामंत्री जितेंद्र बैस ने कहा कि अखंड भारत ही सच्चा भारत है। कहा कि हिन्दू जागरण मंच का मानना है कि मानचित्र में दिखने वाला विभाजन पूरी तरह अप्राकृतिक और कृत्रिम है। सुनाया कि ‘मानचित्र में जो दिखता है नहीं देश भारत है। भू पर नहीं दिलों में ही अब शेष कहीं भारत है।। हमारे दिलों में अखंड प्रतिमा भू पर भी हम अवश्य करेंगे। संकल्प अखंड भारत दिवस पर लेकर काम वर्तमान पीढ़ी ना पाए तो अगली पीढ़ी जरूर करेगी। इस दौरान कार्यकर्ता उत्साहित होकर नारेबाजी कर रहे थे। हिन्दू जागेगा-देश जगेगा, हिन्दू जागरण मंच प्रचंड हो-भारत देश अखंड हो जैसे नारे गूंज रहे थे।

विभाजन के बाद शरणार्थियों की तरह रहे बहुत लोग

रैली समापन पर हिन्दू जागरण मंच के महानगर अध्यक्ष पूर्व पार्षद संजीव अग्रवाल ने कहा कि 1947 में हुए देश के बंटवारे के बाद बहुत सारे हिन्दू अपने ही देश में शरणार्थियों की हालत में रहने को मजबूर थे। उन पर जुल्म ढाए गए, लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी। अखंड भारत संकल्प यात्रा का मकसद अपने पूर्वजों की कुर्बानी को याद कर दोबारा विभाजन नहीं होने का संकल्प लेना है। मीडिया प्रभारी राजीव गोयल ने कहा कि हजारों वाहनों की संख्या के बावजूद शहर में कहीं अव्यवस्था नहीं हुई। एक मिनट भी जाम नहीं लगा। यह मंच के अनुशासन का ही परिणाम है।

ये रहे मौजूद

यात्रा में सचिन सिरोही, शैलेंद्र वाल्मीकि, अजय गर्ग, रामपाल सिंह, नरेंद्र चौहान, स्पर्श, संस्कार, भारत, नवनीत शर्मा, मनोज भूषण, निरंजन बिश्नोई, अमित भड़ाना, भानु प्रताप, प्रियांशु, सुनील ऐरा, सुदेश अहलावत, रमाकांत शर्मा, नवीन पिंडवाल, संजीव प्रधान सहित हजारों की संख्या में कार्यकर्ता शामिल रहे।