ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेश मेरठघर बेचकर बेटी की डोली उठाई थी, लेकिन नहीं बचा रिश्ता

घर बेचकर बेटी की डोली उठाई थी, लेकिन नहीं बचा रिश्ता

गरीब और मजबूर बाप ने मकान बेच दिया ताकि बेटी की डोली उठ सके, लेकिन वो बेटी का रिश्ता नहीं बचा सका। साल भर तक बेटी को ससुराल में दहेज के लिए परेशान...

घर बेचकर बेटी की डोली उठाई थी, लेकिन नहीं बचा रिश्ता
हिन्दुस्तान टीम,मेरठThu, 22 Feb 2024 02:30 AM
ऐप पर पढ़ें

मेरठ। गरीब और मजबूर बाप ने मकान बेच दिया ताकि बेटी की डोली उठ सके, लेकिन वो बेटी का रिश्ता नहीं बचा सका। साल भर तक बेटी को ससुराल में दहेज के लिए परेशान किया। हालांकि अब विवाहिता का सब्र जवाब दे गया। पति और ससुराल वालों को कह दिया कि पिता ने मकान बेचकर किसी तरह से निकाह किया था और अब तुम्हारी मांग को पूरा नहीं कर सकते। इसके बाद भी बात नहीं बनी तो उत्पीड़न और दहेज मांगने का मुकदमा पति और ससुरालियों पर दर्ज कराया है।

लिसाड़ी गेट अहमदनगर निवासी रहमत इलाही ने 31 जुलाई 2022 को अपनी बेटी सुबाना का निकाह तैय्यब निवासी गांव कूकड़ा कोतवाली मुजफ्फरनगर के साथ किया था। सुबाना के निकाह में 25 लाख रुपये खर्च किए गए थे। सुबाना का आरोप है कि निकाह के कुछ ही दिन बाद से उसे दहेज के लिए परेशान किया जाने लगा। कुछ दिन तक तो वह सब कुछ सहती रही, लेकिन इसके बाद उसका शोषण शुरू कर दिया गया। दहेज की मांग की गई तो सुबाना ने मना कर दिया। सुबाना ने ससुराल पक्ष से कह दिया कि पिता की हालत ऐसी नहीं है कि वह और पैसा दे सके। निकाह करने के लिए भी मकान बेचा था। सुबाना का आरोप है कि 21 जुलाई 2023 को मारपीट करके उसे घर से बाहर कर दिया गया। इस मामले में पुलिस से शिकायत की गई, जिसके बाद परिवार परामर्श केंद्र तक मामला पहुंचा। अब इस मामले में सात माह बाद लिसाड़ी गेट थाने में ससुरालवालों के खिलाफ दहेज उत्पीड़न का मुकदमा दर्ज कराया गया है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें