DA Image
19 अक्तूबर, 2020|10:54|IST

अगली स्टोरी

चीनी मिल समितियों के अंशदान से बनेंगे गोदाम

default image

मेरठ। संवाददाता

चीनी की गुणवत्ता पहले से बढ़ जाएगी। सहकारी चीनी मिलों में गोदामों को निर्माण किया जा रहा है। इसके लिए सरकारी चीनी मिल समितियों को गन्ना आपूर्ति से प्राप्त होने वाले अंशदान की धनराशि का इस्तेमाल किया जाएगा।

चीनी मिलों को गन्ना आपूर्ति से प्राप्त होने वाले 40 प्रतिशत धनराशि का प्रयोग प्रबंधकीय खर्च के लिए किया जाएगा। जबकि 60 प्रतिशत धनराशि का इस्तेमाल गन्ना उपयोग विकास कार्यों के लिए किया जाएगा। इसलिए इस अंशदान से गोदामों का निर्माण किया जाएगा। जिससे चीनी के खराब होने या नमी से उसका रंग और टेस्ट में बदलाव की आशंका समाप्त हो जाएगी।

गन्ना विभाग के अधिकारियों के अनुसार, निर्माण के बाद गोदाम का किराया चीनी मिल समिति को प्रचलित बाजार दर किया जाएगा। जिससे समितियों की आय भी बढ़ेगी और आय का स्रोत बनेगा। इसके लिए तैयारी तेज कर दी गई है और जल्द ही योजना को धरातल पर लाया जा रहा है। अंशदान के बचे हुए धन से किसानों को बीज, उवर्रक, दवाइयां, कृषि यंत्र उपलब्ध कराए जाएंगे। प्रदेश के गन्ना एवं चीनी आयुक्त संजय आर भूसरेड्डी ने आदेश जारी कर चीनी भंडारण की समस्या से निजात दिलाने के लिए योजना शुरू करने का निर्देश दिया है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Godowns will be built with the contribution of sugar mill committees