ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेश मेरठमानव तस्करी कर लाए गए पांच बच्चे बरामद, दो गिरफ्तार

मानव तस्करी कर लाए गए पांच बच्चे बरामद, दो गिरफ्तार

मानव तस्करी करके मेरठ से बागपत ले जाए जा रहे पांच बच्चों को रोहटा क्षेत्र में मिशन मुक्ति फाउंडेशन और चाइल्ड लाइन ने रेस्क्यू कराया है। इन बच्चों को...

मानव तस्करी कर लाए गए पांच बच्चे बरामद, दो गिरफ्तार
Newswrapहिन्दुस्तान टीम,मेरठWed, 15 Sep 2021 04:00 AM
ऐप पर पढ़ें

मानव तस्करी करके मेरठ से बागपत ले जाए जा रहे पांच बच्चों को रोहटा क्षेत्र में मिशन मुक्ति फाउंडेशन और चाइल्ड लाइन ने रेस्क्यू कराया है। इन बच्चों को सोनभद्र और मध्यप्रदेश से खरीदकर लाया गया था। बागपत में इन बच्चों से मजदूरी कराई जानी थी। बच्चों की उम्र 11 से लेकर 15 साल है। दो आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। रोहटा थाने में मुकदमा दर्ज कराया गया है।

मिशन मुक्ति फाउंडेशन नई दिल्ली के निदेशक वीरेंद्र सिंह को सोमवार रात को सूचना मिली कि कुछ बच्चों को तस्करी कर मेरठ से बागपत ले जाया जा रहा है। वीरेंद्र सिंह ने राष्ट्रीय बाल अधिकारी संरक्षण आयोग (एनसीपीसीआर) के चेयरमैन प्रियांक कानूनगो को मामले की जानकारी दी। आयोग के चेयरमैन ने मेरठ एसएसपी प्रभाकर चौधरी को फोन किया और बच्चों को रेस्क्यू कराने के लिए मदद मांगी। इसके बाद जनहित फाउंडेशन/चाइल्ड लाइन मेरठ की सदस्य अनीता, मनमोहन सिंह व संदीप कुमार की टीम कार्रवाई के लिए बुलाई गई। मिशन मुक्ति फाउंडेशन के निदेशक मेरठ चाइल्ड लाइन के साथ रोहटा थाने पहुंचे। इसके बाद, रेस्क्यू अभियान शुरू किया गया। पुलिस टीम ने सड़क पर बैरिकेडिंग लगाकर रोडवेज बस (यूपी-12 एटी 8299) को रोका और पांच बच्चों को बरामद कर लिया गया। पुलिस ने दो आरोपियों बड़ौत के वाजिदपुर निवासी अनुज पुत्र राजवीर और कपिल पुत्र इकबाल को गिरफ्तार किया। चाइल्ड लाइन की अनीता राणा ने आरोपियों के खिलाफ रोहटा थाने में मानव तस्करी का मुकदमा दर्ज कराया है। इनमें से तीन बच्चे सोनभद्र के जोगई के रहने वाले हैं। दो सिंगरोली मध्यप्रदेश के हैं।

6 से 10 हजार रुपये में खरीदे

पूछताछ में खुलासा हुआ कि आरोपियों ने इन बच्चों को 6 से 10 हजार रुपये में खरीदा था। हर माह की तनख्वाह देना भी तय किया गया था। इस मामले में पुलिस अब उन दलालों की तलाश में लगी है, जिन्होंने बच्चों की खरीद फरोख्त में भूमिका निभाई।

--------

कुछ बच्चों को मजदूरी के लिए बड़ौत ले जाया जा रहा था। इन बच्चों को एक संस्था और चाइल्ड लाइन की मदद से रेस्क्यू किया गया है। बच्चों को वापस उनके परिजनों तक पहुंचाने का काम चाइल्ड लाइन करेगी।

प्रभाकर चौधरी, एसएसपी मेरठ।

epaper