DA Image
23 जनवरी, 2020|8:23|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कॉलेजों में लैपटॉप और सुविधाओं के नाम पर फीस पर रोक

चौ.चरण सिंह विश्वविद्यालय ने सेल्फ फाइनेंस कॉलेजों में लैपटॉप सहित अन्य मदों में अतिरिक्त शुल्क लेने पर रोक लगा दी है। विश्वविद्यालय ने सितंबर 2017 में जारी उन आदेशों को निरस्त कर दिया है जिसमें कॉलेजों को निर्धारित फीस के अतिरिक्त लैपटॉप एवं अन्य मदों में अलग से फीस लेने की छूट दी गई थी। इन आदेशों की आड़ में कॉलेजों ने छात्र-छात्राओं से वसूली का खेल शुरू कर दिया। विवि के अनुसार जो फीस निर्धारित की गई है, कॉलेज मात्र वही फीस ले सकते हैं। अधिक फीस वसूली पर कॉलेजों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

निजी कॉलेजों में लैपटॉप और अन्य मदों में अधिक फीस वसूली का यह खेल विवि के आदेशों के बाद शुरू हुआ। विवि ने वर्ष 2017 में सेल्फ फाइनेंस कॉलेजों की फीस तय करते हुए यह अधिकार भी दे दिया कि वे लैपटॉप सहित अन्य सुविधाओं की एवज में अतिरिक्त शुल्क ले सकते हैं। इस आदेश कॉलेजों ने फायदा उठाया और सुविधाओं के नाम पर निर्धारित फीस के अतिरिक्त वसूली शुरू कर दी। गाजियाबाद और नोएडा के कॉलेजों ने इस आदेश का सर्वाधिक दुरुपयोग किया। मामला हाईकोर्ट पहुंचा और मनमानी फीस पर जांच शुरू हो गई। जांच में उक्त गलती का पता चला तो विवि ने दिसंबर 2019 में हुई कार्यपरिषद की बैठक में संबंधित आदेश को निरस्त कर दिया। गुरुवार को विवि ने इसका पब्लिक नोटिफिकेशन कर दिया। रजिस्ट्रार धीरेंद्र कुमार के आदेशों के अनुसार विवि ने विभिन्न कोर्स में जो फीस तय की है, कॉलेज केवल वही ले सकते हैं। निर्धारित फीस के अलावा किसी भी मद में कॉलेज कोई शुल्क नहीं ले सकेंगे।