DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › मेरठ › फर्जी डॉक्टर: मनीष कौल ने बनाया था ‘गैंग, शुरू करने वाला था अस्पताल
मेरठ

फर्जी डॉक्टर: मनीष कौल ने बनाया था ‘गैंग, शुरू करने वाला था अस्पताल

हिन्दुस्तान टीम,मेरठPublished By: Newswrap
Sun, 11 Jul 2021 03:40 AM
फर्जी डॉक्टर: मनीष कौल ने बनाया था ‘गैंग, शुरू करने वाला था अस्पताल

मेरठ। मुख्य संवाददाता

देश के कई शहरों में ठगी करने वाला फर्जी डॉक्टर मनीष कौल हर शहर में नए नाम और नई पहचान के साथ अपनी जड़ें जमाता था। मेरठ में उसने डॉ. विक्रांत के नाम से अपना जाल फैला लिया था। यहां के अस्पताल संचालकों से संपर्क बढ़ाकर गैंग खड़ा कर लिया था। वह अपना निजी अस्पताल शुरू करने वाला था। इसी बीच, सोशल मीडिया पर मनीष की पूर्व पत्नी ने उसे पहचान लिया और पुलिस को सूचना दे दी। इससे इस नटवरलाल का भंडाफोड़ हो गया और दिल्ली पुलिस ने धर दबोचा।

दिल्ली पुलिस की टीम ने मेरठ के शुभकामना हॉस्पिटल से मनीष कौल उर्फ डॉक्टर विक्रांत को शुक्रवार दोपहर गिरफ्तार किया। दिल्ली पुलिस की कस्टडी से फरार आरोपी मनीष ईनामी अपराधी है। उसने फरारी के बाद मेरठ में अपने पैर जमा लिए थे। मुंबई से बनवाई गई डॉक्टरी की फर्जी डिग्री के सहारे उसने यहां प्रैक्टिस शुरू कर दी थी। उसके मोबाइल फोन और लैपटॉप से मिली जानकारी के आधार पर पुलिस अधिकारियों ने बताया कि मेरठ में मनीष ने कई छोटे अस्पताल संचालकों से संपर्क बना लिए थे। पिछले दो साल के कोरोना काल में उसने ओपीडी शुरू कर रखी थी। ऐसे में आसपास के लोग उसके पास इलाज कराने पहुंचते थे। आरोपी मनीष ने कुछ साथियों के साथ मिलकर एक अस्पताल शुरू करने की प्लानिंग भी कर ली थी। अस्पताल भी देख लिया गया था। हालांकि, इससे पहले ही उसका भंडाफोड़ हो गया।

--------------

मां-बाप और बहन भी महाठग

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि मनीष कौल का असली नाम वरुण कौल है। हर शहर में वह अलग नाम और पहचान बनाकर रहता है। पुलिस इस पूरे परिवार की कारगुजारियों की छानबीन कर रही है और कई मुकदमों की जानकारी हुई है। इस परिवार पर दिल्ली के अलावा मुंबई, राजस्थान और हरियाणा में करीब 35 मुकदमे दर्ज बताए गए हैं। दिल्ली के मोतीनगर थाने में धोखाधड़ी के मामले में कोर्ट ने वारंट जारी किया था। वहीं दूसरी तरफ कीर्तिनगर थाने में पुलिस हिरासत से भागने का मुकदमा दर्ज है। बताया कि आरोपी मनीष की मां और बहन भी महंगे सामान, ज्वैलरी और कार खरीदती थीं और भुगतान के लिए नकली ड्राफ्ट देते थे। इस संबंध में भी आरोपियों की तलाश थी। वर्ष 2008 में मुंबई में पहली बार इनकी धरपकड़ की गई थी।

-------------

मेरठ पुलिस और स्वास्थ्य विभाग ने शुरू की जांच

मेरठ पुलिस मनीष कौल और उससे जुड़े लोगों की जांच में लगी है। साथ ही स्वास्थ्य विभाग की टीम भी छानबीन कर रही है। पता किया जा रहा है कि मनीष को किसने प्रैक्टिस में मदद की थी। साथ ही किन किन अस्पताल में जा रहे थे और मरीज देख रहे थे। इस पूरे मामले में रिपोर्ट मांगी गई है।

---------------

दिल्ली पुलिस मनीष कौल नाम के व्यक्ति को गिरफ्तार करके ले गई थी, जो पुलिस अभिरक्षा से फरार हुआ था। इस मामले में नौचंदी पुलिस अपने स्तर पर छानबीन में लगी है।

विनीत भटनागर, एसपी सिटी मेरठ

संबंधित खबरें