DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

खत्म करो इंतजार: बारिश ने फिर लगा दिया एक्सप्रेस वे पर ब्रेक

खत्म करो इंतजार: बारिश ने फिर लगा दिया एक्सप्रेस वे पर ब्रेक

सोमवार और मंगलवार की सुबह को हुई बारिश ने एक बार फिर दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस वे के कार्य पर ब्रेक लगा दी है। अब बारिश तक जैसे-तैसे ही काम चलेगा। इससे साफ है कि अक्टूबर तक दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस वे के डासना से मेरठ का चौथा चरण पूर्ण होना मुश्किल है। हालांकि एनएचएआई अधिकारियों का दावा है कि हरसंभव प्रयास किया जा रहा है कि अक्टूबर तक कार्य पूर्ण हो जाए।

सोमवार को मेरठ सहित वेस्ट यूपी में 40 मिलीमीटर से अधिक बारिश हुई। इसी तरह मंगलवार को भी तड़के 16 मिलीमीटर से अधिक बारिश हुई। लगातार दो दिनों की बारिश के कारण दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस में मिट्टी भराव कार्य पर ब्रेक लगा दिया। एक्सप्रेस वे कार्य से जुड़े कर्मचारियों का कहना है कि पिछले साल भी जुलाई, अगस्त में एक्सप्रेस वे का कार्य बारिश में रोकना पड़ा था। इस बार अब तक दो दिनों में जो बारिश हुई है तो उससे मेरठ से डासना के बीच कई स्थानों पर डाली गई मिट्टी बह गई है। इस कारण अब मिट्टी भराव कार्य को रोकना पड़ा है। निर्माण कार्य में लगी गाड़ियों के आने-जाने में भी अब दिक्कत होने लगी है। ऐसी स्थिति में अब जब मौसम थोड़ा साफ होगा तो काम होगा, अन्यथा अब बारिश के दिनों में काम नहीं हो सकेगा। मेरठ से डासना के बीच 32 किलोमीटर में 24 किलोमीटर में ही फिलहाल काम हो रहा था, जिस पर बारिश से ब्रेक लग गया है। शेष लगभग साढ़े सात किलोमीटर में अब जमीन मिलने का इंतजार हो रहा है। अब जमीन उपलब्ध होगा तो आगे काम हो सकेगा।

वैसे परतापुर तिराहे के पास 6 लेन इंटरचेंज पर तेजी से कार्य किया जा रहा था। तीन इंटरचेंज की लेबलिंग कर दी गई थी, लेकिन वहां भी अंडरपास में पानी भर गया। बस किसी तरह वेल्डिंग आदि कार्य किया जा रहा है।

------------------------

गंगा स्नान के दौरान जेब पर भार, जनपद में 3 जगह टोल टैक्स की मार

फोटो---2 पिलखुवा से

-टोल के आठ बूथ तैयार होने के बाद भी नहीं चालू हो पाई कर वसूली

-दिल्ली से हापुड़ तथा हापुड़ से ब्रजघाट तक दो खंड में विभाजित किया एनएच

-दो खंड के अन्तर्गत लगने वाले टोल पिलखुवा और ब्रजघाट में होगी कर वसूली

हापुड़। मुलित त्यागी

15 लाख की आबादी वाले तीन तहसील के जिले को 2019 में दो एक्सप्रेस-वे की सौगात मिलने जा रही है जिनका चौड़ीकरण किया जा रहा है। दिल्ली से हापुड़ के बीच डासना से पिलखुवा तक सिक्स लेन तैयार होने के बाद छिजारसी में टोल लग चुका है जबकि मेरठ-बुलंदशहर हाईवे पर गुलावठी बोर्डर पर एक टोल की तैयारी है। यानि कि ब्रजघाट में पहले से ही एक टोल होने के कारण हापुड़ में आवागमन करने वाले वाहनों को तीन टोल पर कर का भार सहने के लिए मजबूर होना पड़ेगा।

एनएचएआई ने दिल्ली सरायकाले खां से ब्रजघाट तक एनएच-24 और एनएच-9 को दो खंडों में बांट दिया है। जिसके चलते पिलखुवा की आबादी को एक बड़ा लाभ मिलने जा रहा है कि दिल्ली तक हाईवे पर सफर करने के लिए उनको कोई कर देना नहीं पड़ेगा। जबकि गाजियाबाद , नोएडा और दिल्ली के श्रद्धालुओं को गंगा स्नान के लिए जाते समय छिजारसी और ब्रजघाट टोल पर कर देना पड़ेगा। क्योंकि हाईवे चौ़डीकरण के बाद एक टोल छिजारसी में बन चुका है जिसके आठ बूथ तैयार कर दिए गए हैं। 16 जुलाई तक नेताजी का समय उदघाटन के लिए न मिलने के कारण सावन मास के प्रारम्भ से पहले पड़ने वाली पूर्णिमा पर श्रद्धालुओं को बिना टेक्स वसूले निकाला गया। हालांकि डासना का टोल पहले से चल रहा है लेकिन वह ज्यादा पुराना होने के कारण गाजियाबाद लोकल के वाहन स्वामी वहां पर कर देने से इनकार कर देते थे। परंतु अब गाजियाबाद, नोएडा के श्रद्धालुओं को गंगा स्नान से पहले दो जगह हाईवे पर चलने का कर देना पड़ेगा।

मेरठ-बुलंदशहर हाईवे पर पहली बार टोल टैक्स--

जनपद में जहां पिलखुवा तथा ब्रजघाट में टोल लग गया है वहीं पहली बार मेरठ-बुलंदशहर हाईवे चौडीकरण के बाद जनपद में तीसरा टोल लगने जा रहा है। जिसको बुलंदशहर के गुलावठी बोर्डर पर लगाया जा रहा है। हालांकि पूर्व में यह टोल मेरठ जनपद में प्रस्तावित था परंतु टोल के लिए किसानों द्वारा जमीन न दिए जाने के बाद टोल गुलावठी बोर्डर पर पहुंच गया है। यानि कि अब हापुड़ में दिल्ली, मुरादाबाद तथा बुलंदशहर से एंट्री पर वाहन स्वामियों को टैक्स देने के लिए मजबूर होना पड़ेगा।

जिले की सीमा होंगी सुरक्षित--

जहां वाहन स्वामियों की जेब पर तीन टोल चालू होने से भार पड़ने वाला है। वहीं तीन तहसील तथा 9 थानों के जनपद के बोर्डर पर अब कोई भी वाहन बिना सीसीटीवी कैमरे में कैद हुए बाहर नहीं निकल पाएगा। जिसके चलते अपराधियों के वाहन को हाईवे पर घटना को अंजाम देने के बाद किसी न किसी सीमा पर तीसरी नजर में कैद कर लिया जाएगा।

एनएचएआई के डीजीएम मुदित गर्ग का कहना है कि दिल्ली से ब्रजघाटतक हाईवे 9 और 24 को दो खंडों में बांटा गया है। पहले खंड के अन्तर्गत दिल्ली सराय काले खां से छिजारसी तक एक टोल छिजारसी में लगाया गया है। जबकि दूसरे खंड में हापुड़ से ब्रजघाटके बीच अल्लाबख्शपुर में टोल स्थित है। इसलिए वाहन स्वामियों को दोनों टोल पर कर देना होगा।

प्रस्तावित वाहनों का दबाव

कार एवं हल्के वाहन 42 फीसदी

छोटे व्यवासायिक वाहन 12 फीसदी

बस-ट्रक 23 फीसदी

अन्य व्यवसायिक वाहन 23 फीसदी

--

77.49 करोड़ रुपये सालाना टोल वसूली अनुमानित

265 रुपये में मासिक पास स्थानीय लोगों को जारी होगा

16.45 लाख रुपये टोल वसूली एजेंसी को प्रति सप्ताह एनएचएआई को दिया जाना प्रस्तावित

--

लागत-7 हजार करोड़ रुपये

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:express way