DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मेरठ एक्सप्रेस वे को अधूरे निर्माण के साथ खोलने की तैयारी

मेरठ एक्सप्रेस वे को अधूरे निर्माण के साथ खोलने की तैयारी

दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस वे के तीसरे चरण (डासना से हापुड़) को खोलने में जल्दबाजी की जा रही है। एनएचएआई का दावा है कि यह चरण 15 जून को खोल दिया जाएगा, जबकि इस पर अभी काफी काम होना शेष है। मसूरी गंगनहर पुल के ऊपर स्टील का पुल पूरा नहीं बन सका है। पिलखुवा में फ्लाईओवर पर काफी काम होना है। यही नहीं, डासना से पिलखुवा तक कई जगह सड़क बनाने का काम अभी चल रहा है। रविवार को ‘हिन्दुस्तान पड़ताल के दौरान यह बातें निकलकर सामने आई। ऐसे में माना जा रहा है कि आधी-अधूरी तैयारियों के साथ एक्सप्रेस वे पर वाहन दौड़ाने की तैयारी है।

नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (एनएचएआई) के साथ कुछ दिनों पहले जीडीए में कमिश्नर अनीता सी मेश्राम की बैठक हुई। बैठक में एनएचएआई ने 15 जून तक दिल्ली-मेरठ एक्सप्रसे वे के तीसरे चरण को खोलने का दावा किया। कमिश्नर को बताया गया कि 90 फीसदी काम पूरा कर लिया गया है। इसके अलावा यूपी गेट से डासना (दूसरा चरण) पर काम चल रहा है। इस चरण के एक्सप्रेस वे की भी कुछ लेन जून में ही खोलने की बात कही गई है।

‘हिन्दुस्तान टीम ने यूपी गेट से पिलखुवा तक एक्सप्रेस वे की पड़ताल की। इसमें पाया कि दूसरे और तीसरे चरण में काफी कार्य होना शेष है। जिस तीसरे चरण (डासना से हापुड़) को 15 जून को खोलने का दावा किया जा रहा है, उस पर निर्माण कार्य चल रहा है। इस चरण में मसूरी और डासना में दो अंडरपास बनाए जाने हैं। अंडरपास बनाने में दो से तीन माह का समय लग सकता है। मसूरी गंगनहर पुल के ऊपर स्टील का पुल बनाया जा रहा है। पुल बनाने के लिए अभी ढांचा ही खड़ा किया गया है, पुल के पूरा होने में समय लगेगा। पिलखुवा में फ्लाईओवर बनाया जा रहा है। फ्लाईओवर में 155 पिलर लगाए जाने हैं, लेकिन अभी तक 135 पिलर ही लग सके है। इसके अलावा डासना से हापुड़ तक बीच-बीच में सड़क नहीं बनी हैं। सड़क बनाने के लिए काफी मिट्टी पड़ी है। कार्य की रफ्तार देखकर लोगों में चर्चा है कि 15 जून तक काम पूरा होना संभव नहीं है। ऐसे में अधूरी तैयारियों के साथ एक्सप्रेस वे पर वाहन दौड़ेंगे।

दूसरा चरण भी रफ्तार नहीं पकड़ रहा

यूपी गेट से डासना (दूसरा चरण) की कुछ लेन भी जून आखिरी तक खोलने की बात कही गई थी, लेकिन जिस तरीके से काम चल रहा है, उसे देखकर लग नहीं रहा कि एक्सप्रेस वे की लेन खोल दी जाएगी। लालकुआं फ्लाईओवर का निर्माण चल रहा है। चिपियाना बुजुर्ग पर आरओबी बनाने का काम शुरू नहीं हो सका। विजयनगर बाइपास के पास पाइपलाइन नहीं बिछाई जा रही। राहुल विहार में हाईटेंशन लाइन शिफ्ट नहीं हो सकी। सड़क बीच में कई जगह नहीं बनी। हालांकि एनएचएआई का दावा है कि दूसरा चरण का काम मई 2020 तक पूरा करने का लक्ष्य है। इस चरण का काम तय तिथि से पहले ही पूरा कर लिया जाएगा।

इस तरह हैं चार चरण

-हजरत निजामुद्दीन से यूपी बॉर्डर 8.3 किलोमीटर, 14 लेन

-यूपी बॉर्डर से डासना 19.28 किलोमीटर, 14 लेन

-डासना से हापुड़ 22.27 किलोमीटर ,छह लेन

-डासना से मेरठ 31.78 किलोमीटर, छह लेन

दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस वे का काम तेजी से चल रहा है। डासना से हापुड़ तक के चरण को 15 जून तक खोलने की कोशिश है। यूपी गेट से डासना तक का काम पूरा होने में अभी समय लगेगा।

-मुदित गर्ग, प्रोजेक्ट मैनेजर

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:express way