express way - मेरठ-दिल्ली एक्सप्रेस-वे ने पकड़ी रफ्तार, पिलर का काम शुरू, पेड़ होंगे शिफ्ट DA Image
14 दिसंबर, 2019|3:07|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मेरठ-दिल्ली एक्सप्रेस-वे ने पकड़ी रफ्तार, पिलर का काम शुरू, पेड़ होंगे शिफ्ट

मेरठ-दिल्ली एक्सप्रेस-वे ने पकड़ी रफ्तार, पिलर का काम शुरू, पेड़ होंगे शिफ्ट

मेरठ दिल्ली एक्सप्रेस-वे का काम बारिश के लंबे ब्रेक के बाद रफ्तार पकड चुका है। गुरुवार को बराल परतापुर में ओवर ब्रिज के पिलर बनाने वाली पायलिंग मशीन पहुंच गई जो पिलर बनाने के लिए साठ फिट नीचे तक बोरिंग करेगी। इसके साथ ही पेडों का कटान और शिफ्टिंग का काम भी शुरू होने जा रहा है।

डासना से मेरठ तक 32 किलोमीटर की दूरी में मेरठ-दिल्ली एक्सप्रेस वे का काम तेजी पकड चुका है। हर दिन100 से ज्यादा लोग ओवरब्रिज बनाने में जुट गए हैं। जून 2019 तक बनने वाले एक्सप्रेस वे के दायरे में आने वाले फल वाले पेडों को भी शिफट करने की तैयारी शुरु हो गई है। जल्द ही हजारों पेडों को अन्य जगह शिफ्ट किए जाएंगे। भूडबराल रजवाहे और परतापुर तिराहे के बीच बनने वाले एक्सप्रेस- वे के रेलवे ओवर ब्रिज से बाईपास पर कनेक्टविटी दी जाएगी जिससे 15 गांवों को जोडने वाला परतापुर महरौली मार्ग बंद हो जाएगा। ग्रामीण इस बात को लेकर असंमजस में हैं। लोगों का कहना है कि परतापुर तिराहे के पास परतापुर गांव में जाने का मार्ग है जो एक्सप्रेस-वे की जद में आ रहा है। इस मार्ग के बंद होने से परतापुर,महरौली,छज्जुपुर,सोहरका,अंजौली,घाट,पांचली सहित कई गांवों के ग्रामीणों का रास्ता बंद हो जाएगा। इन गांवों के हजारों बच्चे पैदल व अन्य वाहनों से इसी मार्ग से आते जाते हैं। ग्रामीणों का कहना है कि सही मार्ग न मिला तो आंदोलन करेंगे। उधर परतापुर निवासी सुशील कुमार चौधरी का कहना है कि जो भी मार्ग बने वह स्वच्छ,सुलभ व सुरक्षित होना चाहिए। सभासद विशाल चौधरी का कहना है कि मार्ग बंद होने से पहले अन्य मार्ग की व्यवस्था होगी उसके बाद ही ओवरब्रिज का काम होने दिया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:express way