DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  मेरठ  ›  विद्यालयों में खामियों पर शिक्षकों के खिलाफ कार्रवाई का आदेश
मेरठ

विद्यालयों में खामियों पर शिक्षकों के खिलाफ कार्रवाई का आदेश

हिन्दुस्तान टीम,मेरठPublished By: Newswrap
Sat, 10 Feb 2018 01:51 AM
विद्यालयों में खामियों पर शिक्षकों के खिलाफ कार्रवाई का आदेश

पिछले दिनों निरीक्षण में विद्यालयों में मिली खामियों पर नगर शिक्षा अधिकारी की रिपोर्ट के बाद बीएसए ने शिक्षकों के खिलाफ कार्रवाई का आदेश दे दिया है। चार अध्यापक निलंबित कर दिया गया है। एक टीचर से जवाब मांगा गया है।

बेसिक शिक्षा परिषद के क्षेत्रीय कार्यालय से जारी आदेश के अनुसार, डौरली के उच्च प्राथमिक विद्यालय में कुल 4 छात्राएं उपस्थित मिली थी। तीनों अध्यापिकाएं बच्चों के साथ धूप में बैठी हुई थी। कमरे का फर्श टूटा और दोनों शौचालय गंदे होने के साथ ही टूटे मिले। एक शौचालय में ताला लगा मिला। शिक्षा की गुणवत्ता संतोषजनक नहीं मिली। इस पर प्रधानअध्यापिका विमला देवी को निलंबित कर दिया गया है। साथ ही सहायक अध्यापिका गीता रानी को प्रतिकूल प्रविष्टि दी गई है। प्राथमिक विद्यालय कन्या अंदरकोट बेलपत्थर में कुल पंजीकृत छात्रों से बेहद कम छात्र स्कूल में मिले। स्कूल के भवन को नुकसान पाया गया। बरामदे, कक्ष, प्रवेश द्वार, शौचालय टूटा हुआ था। कमरों की खिड़की टूटी होने के साथ ही पुताई के धन का भी उपयोग नहीं किया। इन सभी कामों के लिए शिक्षकों की तरफ से कभी अधिकारियों को कहा तक नहीं गया। शिक्षक डायरी गायब मिली। इन सबके आधार पर शिक्षक अनिल कुमार त्यागी को निलंबित कर दिया गया। प्राथमिक विद्यालय स्मिथगंज, जयदेवी नगर में प्रधान अध्यापक मयंक रस्तौगी गायब थे और शिक्षामित्र अवकाश पर बताए गए। मिड डे मील में गड़बड़ी और शिक्षा की गुणवत्ता सही नहीं मिलने पर मयंक रस्तोगी को निलंबित कर दिया है। उच्च प्राथमिक विद्यालय अंदरकोट के प्रभारी प्रधानअध्यापक अब्दुल रऊफ को स्कूल निर्धारित समय से पहले बंद करने के आरोप की जांच के बाद निलंबित किया गया है। बीएसए सतेंद्र कुमार ने बताया कि नगर शिक्षा अधिकारी की रिपोर्ट के बाद शिक्षकों के खिलाफ निलंबन की कार्रवाई की गई है।

संबंधित खबरें