DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अनियंत्रित स्कूल बस गड्ढे में पलटने से बची

अनियंत्रित स्कूल बस गड्ढे में पलटने से बची

हाईवे पर मटौर गांव के सामने स्कूल बस चालक की लापरवाही के चलके अनियंत्रित होकर सड़क किनारे गड्ढे में पलटने से बाल-बाल बची। हादसे के दौरान बस सवार बच्चों में चीखपुकार मच गई। जानकारी मिलते ही परिजन भी मौके पर पहुंचे और पुलिस को सूचना देते हुए बच्चों को घर ले गए। मौके पर पहुंची पुलिस बस को कब्जे में लेकर चालक को हिरासत में ले लिया।

पल्लवपुरम फेज प्रथम स्थित जेएस एकेडमी की बस पर सकौती निवासी राजपाल चालक है। बताया है कि बुधवार सुबह चालक बस लेकर दौराला क्षेत्र के गांवों से बच्चों को लेने के लिए आया था। वलीदपुर गांव से बच्चों को लेकर स्कूल लौटने के दौरान चालक मटौर गांव के सामने हाईवे पर बने कट पर मोड़ने के दौरान बस से नियंत्रण खो बैठा। अनियंत्रित बस सड़क किनारे गड्ढे में पलटने से बाल-बाल बची। इस दौरान बच्चों की चीख सुन एकत्र राहगीरों ने मामले की जानकारी बच्चों के परिजनों को दी। जिसके चलते परिजनों में अफरातफरी मच गई और मौके पर पहुंचे परिजन बच्चों को लेकर घर चले गए। परिजनों की सूचना पर पहुंची पुलिस बस को कब्जे में लेते हुए चालक को हिरासत में ले लिया। थाने पर देर सायं तक मामलें में कोई तहरीर नहीं आई है। वहीं चालक को नशे में होना बताया गया है।-पैसे पूरे और सुरक्षा में लापरवाहीहादसे के बाद मौके पर जमा परिजनों ने बताया कि स्कूल प्रबधंन प्रति बच्चा 850 रुपये प्रति माह वसूलता है। लेकिन बुधवार को हुए हादसे में स्कूल प्रबधंन की बच्चों की सुरक्षा के प्रति जिम्मेदारी की पोल खोल दी है। परिजनों को कहना था कि चालक नशे में था और चालक की जिम्मेदारी स्कूल प्रबधंन की है। परिजनों ने प्रबधंन पर बच्चों की सुरक्षा में लापरवाही के आरोप लगाए।-गड्ढे के सामने पड़े पत्थर से बचा हादसामौके पर पहुंचे परिजनों ने बताया कि अनियंत्रित बस गड्ढे में गिरने ही वाली थी, लेकिन बस एक बडे पत्थर से टकरा गई और किनारे पर तिरछी होकर रूक गई। यदि पत्थर नहीं होता तो बस गड्ढे में पलट जाती और बड़ा हादसा हो सकता था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:dorala accident news