DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  मेरठ  ›  जिला पंचायत अध्यक्ष : घमासान तेज, भाजपा की घेराबंदी में विपक्ष

मेरठजिला पंचायत अध्यक्ष : घमासान तेज, भाजपा की घेराबंदी में विपक्ष

हिन्दुस्तान टीम,मेरठPublished By: Newswrap
Tue, 25 May 2021 03:40 AM
जिला पंचायत अध्यक्ष : घमासान तेज, भाजपा की घेराबंदी में विपक्ष

जिला पंचायत अध्यक्ष पद को लेकर भाजपा से गौरव चौधरी कुसैड़ी का नाम तय होने के बाद अब घमासान तेज हो गया है। सपा, रालोद और बसपा की बैठक में 19 सदस्यों ने पहुंचकर भाजपा की घेराबंदी का ऐलान कर दिया है। सपा और रालोद नेताओं ने कहा है कि एक, दो दिनों में विपक्ष के साझा प्रत्याशी की घोषणा कर दी जाएगी। उधर, सपा जिलाध्यक्ष राजपाल सिंह ने कहा है कि राष्ट्रीय नेतृत्व को सारी जानकारी भेजी जा चुकी है। नेतृत्व के निर्देश के तहत ही फैसला होगा।

भाजपा से जिला पंचायत अध्यक्ष के लिए प्रत्याशी तय होने के बाद अब विपक्ष मुखर हो उठा है। रविवार को रालोद नेताओं की बैठक हुई। वहीं सोमवार को गढ़ रोड स्थित एक बड़े होटल में सपा, रालोद और बसपा के नेताओं, जिला पंचायत सदस्यों की महत्वपूर्ण बैठक हुई। बैठक में सपा से अतुल प्रधान, रालोद से क्षेत्रीय अध्यक्ष यशवीर सिंह, प्रदेश प्रवक्ता सुनील रोहटा आदि पहुंचे। साथ ही सपा, रालोद, बसपा के 17 जिला पंचायत सदस्य पहुंचे। दो सदस्य बाद में पहुंचे। बैठक में रालोद के तीन नामों पर विचार के साथ सपा से वार्ड-2 से विजयी मुनेश, बसपा से वार्ड-6 से विजयी अनुज चेयरमैन की पत्नी सलोनी और वार्ड-22 से गोपाल प्रधान के नाम को रखा गया।

सपा, रालोद नेताओं ने कहा कि जिला पंचायत के चुनाव में जिले की जनता ने भाजपा के खिलाफ वोट दिया है। ऐसे में भाजपा को जिला पंचायत अध्यक्ष बनाने का कोई अधिकार नहीं है। विपक्ष के जिला पंचायत सदस्यों ने कहा कि पार्टी के बड़े नेता और पदाधिकारी किसी को भी प्रत्याशी तय कर दें, एकजुट रहेंगे। अंत में सभी ने पार्टी नेताओं पर ही जिम्मेदारी दी। सपा और रालोद नेताओं ने कहा है कि जल्द ही साझा प्रत्याशी की घोषणा कर दी जाएगी।

भाजपा में शामिल हो सकते हैं चार जिपं सदस्य

भाजपा की ओर से गौरव चौधरी कुसैड़ी का नाम तय किए जाने के बाद अब निर्दलीय और दूसरे दलों के जिला पंचायत सदस्यों से संपर्क का काम सोमवार को तेज कर दिया गया है। जिला सहकारी बैंक चेयरमैन मनिंदरपाल सिंह और दूसरे नेता लगातार जिला पंचायत सदस्यों से संपर्क बनाने में लगे हैं। हालांकि सोमवार को भाजपा नेताओं के संपर्क में मुश्किल से चार सदस्य ही आ सके। दो ने मोबाइल स्विच ऑफ कर लिया। अब मंगलवार को दूसरे दलों और निर्दलीय सदस्यों से फाइनल राउंड की बातचीत के बाद ही घोषणा की जाएगी। वैसे भाजपा की ओर से समीकरण बैठाने का काम तेजी से किया जा रहा है।

भाजपा की घेराबंदी में जुटे पूर्व मंत्री, पूर्व विधायक

भाजपा की घेराबंदी में एक पूर्व मंत्री और पूर्व विधायक परदे के पीछे से जुट गए हैं। माना जा रहा है कि पूर्व मंत्री के पास जिला पंचायत के चार सदस्य हैं। वहीं पूर्व विधायक के पास भी तीन सदस्य हैं। दोनों को पंचायत से लेकर विधानसभा तक का अच्छा अनुभव है। उसी अनुभव के आधार पर भाजपा की घेराबंदी की जा रही है, जिसमें भाजपा के कुछ लोग मददगार साबित हो रहे हैं।

जीत साझा प्रत्याशी की होगी

जिले की जनता ने भाजपा के खिलाफ वोट दिया है। सोमवार को बैठक में भी 19 सदस्य एकजुट होकर पहुंचे। साफ है कि विपक्ष के साझा प्रत्याशी की जीत होगी

- अतुल प्रधान, सपा नेता।

एकजुट है विपक्ष

जिला पंचायत अध्यक्ष को लेकर विपक्ष एकजुट है। बहुमत से अधिक वोट विपक्ष के पास है। विपक्ष का ही जिला पंचायत अध्यक्ष बनेगा

- यशवीर सिंह, क्षेत्रीय अध्यक्ष, रालोद।

भाजपा का ही अध्यक्ष होगा

जिला पंचायत अध्यक्ष तो भाजपा का ही होगा। समान विचाराधारा के लोगों से लगातार संपर्क है। कुछ लोग पार्टी में जल्द शामिल होंगे। जीत तो पार्टी की ही होगी

- अनुज राठी, जिलाध्यक्ष, भाजपा।

संबंधित खबरें