DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  मेरठ  ›  आधी हुई ऑक्सीजन की मांग, उद्यमी बोले- खत्म करो प्रतिबंध

मेरठआधी हुई ऑक्सीजन की मांग, उद्यमी बोले- खत्म करो प्रतिबंध

हिन्दुस्तान टीम,मेरठPublished By: Newswrap
Tue, 25 May 2021 03:40 AM
आधी हुई ऑक्सीजन की मांग, उद्यमी बोले- खत्म करो प्रतिबंध

मेरठ। वरिष्ठ संवाददाता

कोरोना संक्रमितों की संख्या में कमी आने के साथ ही ऑक्सीजन के लिए मची हायतौबा अब खत्म हो गई है। ऑक्सीजन की मांग पिछले एक सप्ताह में घटकर आधी रह गई है। वहीं, नए प्लांट लगने और मांग में कमी आने से अब जिले में ऑक्सीजन सरप्लस है। ऐसे में अब उद्यमियों ने बची हुई ऑक्सीजन उद्योगों को देने की मांग की है। हालांकि, उपायुक्त उद्योग का कहना है कि शासन के आदेश के बाद ही इंडस्ट्री को ऑक्सीजन मिल पाएगी।

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक पहले जिले में 30 टन ऑक्सीजन की उपलब्धता थी। इसमें से 90 फीसदी तक ऑक्सीजन इंडस्ट्री को जाती थी। कोरोना संक्रमण के चलते मरीजों को जरूरत बढ़ी तो प्रदेश सरकार ने उद्योगों की सप्लाई रोकते हुए अस्पतालों को ऑक्सीजन पहुंचाने के निर्देश दिए थे।

अब यह है स्थिति

जिले में अब ऑक्सीजन की उपलब्धता 30 टन से बढ़कर करीब 60 टन तक पहुंच गई। केएमसी, आनंद हॉस्पिटल समेत कई अस्पतालों के साथ सरधना में ऑक्सीजन प्लांट भी लगाया जा रहा है। दावा है कि ऑक्सीजन के मामले में दो से तीन महीनों में मेरठ आत्मनिर्भर बन जाएगा।

इन उद्योगों को चाहिए ऑक्सीजन

जिले में हैंडीक्राफ्ट, बैटरी, फैब्रिकेशन, एग्रीक्लचर इंप्लीमेंट, वेल्डिंग उद्योग में ऑक्सीजन का प्रयोग होता है। मेडिकल एवं आवश्यक वस्तुओं के निर्माण से जुड़ी औद्योगिक इकाइयों को छोड़कर अन्य में ऑक्सीजन आपूर्ति बंद है। कटिंग, टांके आदि का काम पूरी तरह से ठप है।

कोट्स:::

मेरठ समेत प्रदेश के अन्य जिलों में भी ऑक्सीजन का संकट अब दूर हो गया। बची हुई ऑक्सीजन इंडस्ट्री के लिए देना चाहिए।

पंकज गुप्ता, राष्ट्रीय चेयरमैन आईआईए

जिले में अब ऑक्सीजन की मांग आधी रह गई है। बची हुई ऑक्सीजन का कुछ कोटा निर्धारित करके उद्योगों को दिया जाए।

कमल ठाकुर, उद्यमी

ऑक्सीजन की मांग आधी रह गई है और उपब्धता बढ़ गई है। इंडस्ट्री को ऑक्सीजन आपूर्ति का आदेश शासन से आएगा, तभी इंडस्ट्री को ऑक्सीजन मिलेगी।

वीके कौशल, उपायुक्त उद्योग

संबंधित खबरें