DA Image
14 अगस्त, 2020|7:36|IST

अगली स्टोरी

अस्थाई जेल में मुलाकाती ला रहे कोरोना

अस्थाई जेल में मुलाकाती ला रहे कोरोना

अस्थाई जेल में बढ़ते कोरोना संक्रमण के लिए मुलाकातियों की भीड़ भी जिम्मेदार है। रात होते ही यहां लोगों का जमावड़ा लग जाता है। न तो जेल प्रशासन और न ही पुलिस की ओर से कोई रोकटोक की जा जाती है। ऐसे में बिना किसी जांच और टेस्ट के ये लोग अपने परिचितों से मिलते हैं और यहीं पर तमाम व्यवस्थाएं चौपट हो जाती हैं। अस्थाई जेल के अंदर कोरोना पहुंच जाता है और लगातार संक्रमण फैल रहा है।

मेरठ में मुख्य जेल को कोरोना संक्रमण से बचाने के लिए अस्थाई जेल का निर्माण किया गया था। इस जेल को छोटूराम इंजीनियरिंग कॉलेज में बनाया गया। हालांकि जेल प्रशासन और पुलिस-प्रशासनिक अधिकारियों ने मुख्य जेल को संक्रमण से बचा लिया, लेकिन अस्थाई जेल अब कोरोना की चपेट में है। 56 मामले सामने आ चुके हैं। कुछ लोग तो बाहर से संक्रमित होने के बाद यहां पुलिस के द्वारा लाए गए, लेकिन अब नया ड्रामा अस्थाई जेल पर शुरू हो गया है। जेल प्रशासन और पुलिस की मिलीभगत के कारण यहां आने वाले लोगों के रिश्तेदार और परिवार के लोग मुलाकात के लिए आते हैं। रात होते ही इनका जमावड़ा लग जाता है। इन लोगों को नियमों को ताक पर रखकर बंदियों से मिलने की अनुमति दी जाती है। इस दौरान न तो इनका बॉडी तापमान मापा जाता है और न ही बाकी सुरक्षा इंतजाम अपनाए जाते हैं। हिन्दुस्तान टीम मंगलवार रात को अस्थाई जेल पर पहुंची, जहां मुलाकातियों की भीड़ लगी हुई थी। सवाल उठता है कि जब रात को आठ बजे के बाद कर्फ्यू लागू है तो कैसे ये लोग बेधड़क यहां घूम रहे हैं? आखिर किसकी शह पर इन्हें अंदर एंट्री मिली? पुलिस इनका चालान क्यों नहीं काट रही और क्यों इन पर मुकदमा दर्ज नहीं किया जा रहा है।

------

प्रकरण मेरे संज्ञान में नहीं है। ऐसा है तो वहां फोर्स बढ़ाई जाएगी। जो भी इस तरह से रात को आएगा, उस पर मुकदमा होगा।

अखिलेश नारायण सिंह, एसपी सिटी मेरठ।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Corona bringing visitors to temporary prison