DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  मेरठ  ›  सीसीएसयू: बीए में पढ़ाए जाएंगे चौधरी चरण सिंह के विचार

मेरठसीसीएसयू: बीए में पढ़ाए जाएंगे चौधरी चरण सिंह के विचार

हिन्दुस्तान टीम,मेरठPublished By: Newswrap
Tue, 01 Jun 2021 03:51 AM
गांव की पगदंडियों से निकल अपनी प्रतिभा के दम पर देश के पांचवें प्रधानमत्री की कुर्सी तक पहुंचने वाले किसानों के मसीहा चौधरी चरण सिंह के राजनीतिक...
1 / 2गांव की पगदंडियों से निकल अपनी प्रतिभा के दम पर देश के पांचवें प्रधानमत्री की कुर्सी तक पहुंचने वाले किसानों के मसीहा चौधरी चरण सिंह के राजनीतिक...
गांव की पगदंडियों से निकल अपनी प्रतिभा के दम पर देश के पांचवें प्रधानमत्री की कुर्सी तक पहुंचने वाले किसानों के मसीहा चौधरी चरण सिंह के राजनीतिक...
2 / 2गांव की पगदंडियों से निकल अपनी प्रतिभा के दम पर देश के पांचवें प्रधानमत्री की कुर्सी तक पहुंचने वाले किसानों के मसीहा चौधरी चरण सिंह के राजनीतिक...

गांव की पगदंडियों से निकल अपनी प्रतिभा के दम पर देश के पांचवें प्रधानमत्री की कुर्सी तक पहुंचने वाले किसानों के मसीहा चौधरी चरण सिंह के राजनीतिक विचार अब छात्रों को प्रेरित करेंगे। देहांत के 34 वर्षों बाद उनके राजनीति विचारों को पहली बार किसी विश्वविद्यालय ने स्वीकारते हुए छात्रों को पढ़ाने का निर्णय लिया है। उनके नाम पर स्थापित चौधरी चरण सिंह विवि ने सोमवार को उनके राजनीतिक विचारों को बीए राजनीति विज्ञान का हिस्सा बना दिया। इंडियन पॉलिटिकल थॉट के पेपर में जिन 25 राजनीतिज्ञों के विचार पढ़ने को मिलेंगे उसमें चौधरी चरण सिंह भी शामिल हैं।

कन्वीनर प्रो. पवन कुमार शर्मा के अनुसार चौधरी चरण सिंह के राजनीति विचारों को छात्र-छात्राओं को विस्तार से समझाया और पढ़ाया जाएगा। चौधरी चरण सिंह के साथ बाबू जगजीवन राम, एमसी रजा, दादा भाई नौराजी, सरोजनी नायडू, मौलाना अबुल कलाम आजाद, देवी अहिल्याबाई होल्कर, मौलाना हसरत नौमानी, दीनदयाल उपाध्याय और कन्हैया लाल माणिक लाल मुंशी के विचार भी छात्रों को पढ़ने को मिलेंगे। प्रो.पवन कुमार के अनुसार देश के किसी विवि में यह पहली बार है जहां इन सब महान हस्तियों के राजनीतिक विचारों को कोर्स का हिस्सा बनाया है।

यह थे चौ.चरण सिंह विचार

देश की तरक्की का रास्ता गांवों, खेतों और खलिहानों से होकर गुजरता है। ग्रामीण अर्थव्यवस्था, देश की अर्थव्यव्स्था की नींव की ईंट है। ग्रामीण अर्थव्यवस्था मजबूत होगी तो देश की अर्थव्यवस्था भी मजबूत होगी। किसान की एक आंख हल पर होनी चाहिए और एक देश की संसद पर।

संबंधित खबरें