DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › मेरठ › बस अड्डे, अवैध पार्किंग, अतिक्रमण है ट्रैफिक जाम के कारण
मेरठ

बस अड्डे, अवैध पार्किंग, अतिक्रमण है ट्रैफिक जाम के कारण

हिन्दुस्तान टीम,मेरठPublished By: Newswrap
Wed, 01 Sep 2021 04:00 AM
बस अड्डे, अवैध पार्किंग, अतिक्रमण है ट्रैफिक जाम के कारण

मेरठ। मुख्य संवाददाता

शहर के बीच बस अड्डे, जगह-जगह अवैध पार्किंग, सरकारी और निजी अतिक्रमण मेरठ शहर में ट्रैफिक जाम के प्रमुख कारण हैं। सात दिन में बस अड्डों को बाहर करने के लिए जमीन चिह्नित की जाएगी। इसी तरह अब प्रशासन की टीम मल्टीलेवल पार्किंग के लिए शहर में जमीन खोजेगी। 13 स्थानों पर सरकारी और निजी अतिक्रमण हटाने की संयुक्त कार्रवाई होगी।

मंगलवार को कमिश्नर सुरेन्द्र सिंह, आईजी प्रवीण कुमार ने मेरठ शहर की यातायात संबंधी समस्याओं को लेकर उच्चस्तरीय बैठक की। बैठक में डीएम के.बालाजी, एसएसपी प्रभाकर सिंह, नगर आयुक्त मनीष बंसल, एमडीए वीसी मृदुल चौधरी, एडएम सिटी अजय कुमार तिवारी, एमडीए सचिव प्रवीणा अग्रवाल, एसपी ट्रैफिक जितेन्द्र श्रीवास्तव, आरटीओ मेरठ, आरएम रोडवेज, आवास विकास, पीडब्लूडी, एवं सेतु निगम के अधिकारी शामिल हुए। बैठक में ट्रैफिक सुधार को लेकर गहन मंथन हुआ। पिछली बैठकों पर चर्चा हुई। अब युद्धस्तर पर कर्रवाई की बात हुई।

भैंसाली और सोहराब गेट बस अड्डे बाहर हों

शहर में ट्रैफिक जाम का कारण बन रहे भैंसाली एवं सोहराब गेट बस अड्डों को शहर से बाहर शिफ्ट करने के लिए एक बार फिर सख्त निर्देश दिए गए। कमिश्नर ने अभी तक भूमि चिह्नित न होने पर अप्रसन्नता व्यक्त करते हुए अपेक्षा की कि एडीएम सिटी, एसपी सिटी और आरएम रोडवेज़ सात दिनों के अंदर संयुक्त रूप से स्थलीय निरीक्षण कर संभावित भूमि तलाश करें। कमिश्नर को बताएं। नगर आयुक्त एवं एमडीए वीसी भी अपने क्षेत्र अंतर्गत भूमि चिह्नित करें। इस संबंध में उच्च न्यायालय के आदेश भी हैं। यह कार्य जल्द से जल्द होना है।

10 दिन में चिह्नित हो मल्टीलेवल पार्किंग की जमीन

शहर में अवैध वाहन पार्किंग बड़ी समस्या है। इस समस्या को दूर करने के लिए मल्टीलेवल पार्किंग का निर्माण जरूरी है। इसके लिए पर्याप्त स्थल/भूमि अभी तक चिन्हित न होने पर नाराज़गी व्यक्त करते हुए कमिश्नर ने डीएम से अपेक्षा की कि वह एडीएम, एसडीएम, राजस्व टीम लगाकर 10 दिन के अंदर शहर में मल्टीलेवल पार्किंग के लिए जमीन चिह्नित कराएं। कार्य को समयबद्ध पूर्ण किया जाए।

13 स्थानों पर अतिक्रमण

एसपी ट्रैफिक ने शहर के यातायात में बाधक अतिक्रमण/अवैध निर्माण को चिह्नित करते हुए उसकी सूची बैठक में रखी। 13 स्थान बेगमपुल, सोतीगंज, प्लाजा सिनेमा, भैंसाली, महताब सिनेमा, केसरगंज, रेलवे रोड चौराहा, ईदगाह, मेट्रो प्लाजा, बागपत स्टैंड, भूमिया पुल, लिसाड़ी गेट एवं जीरो माइल चौराहे पर बिजली के खंभे, ट्रांसफार्मर, यूनिपोल, पेड़, सीवर लाइन, गैस पाइपलाइन, टेलीफोन पोल आदि से अतिक्रमण बताया। कमिश्नर ने संबंधित विभागों के अधिकारियों को ऐसे सभी अतिक्रमण को हटाने के आदेश दिए।

तीन चौराहों का ठीक न होना

मेरठ शहर में तीन चौराहों का ठीक न होना भी ट्रैफिक के लिए समस्या बताई गई। हापुड़ अड्डा, बच्चा पार्क को सुंदर और व्यवस्थित करने का कार्य तत्काल प्रारंभ करने के निर्देश दिए। एसपी ट्रैफिक ने बताया कि हापुड़ अड्डा चौराहे पर ट्रैफिक फ्लो में सुधार के लिए कार्य किया गया है। इसी प्रकार अन्य चौराहों पर भी कार्य किए जाएं।

घंटाघर से ब्रहमपुरी कोटला नाला होगा अंडरग्राउन्ड

इसी तरह ट्रैफिक के लिए घंटाघर से ब्रह्मपुरी की ओर बने नाले को अंडरग्राउंड करने की योजना पर कार्य करने के निर्देश दिए गए। नगर आयुक्त ने बताया कि उक्त कार्य 30 करोड़ की डीपीआर बनाकर शासन को भेज दिया गया है। 25 करोड़ जल निगम एवं पांच करोड़ का प्रस्ताव लोक निर्माण विभाग द्वारा दिया गया है। डीपीआर की स्वीकृति के बाद आगे की कार्रवाई होगी। साथ ही शहर में इस प्रकार अन्य जगहों पर भी, जहां अधिक समस्या है तो नालों को अंडरग्राउंड करने की योजना बनाने को कहा गया।

संबंधित खबरें