DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  मेरठ  ›  लॉकडाउन में तान दीं इमारतें, जोनल प्रभारियों से जवाब तलब

मेरठलॉकडाउन में तान दीं इमारतें, जोनल प्रभारियों से जवाब तलब

हिन्दुस्तान टीम,मेरठPublished By: Newswrap
Tue, 01 Jun 2021 04:00 AM
लॉकडाउन में तान दीं इमारतें, जोनल प्रभारियों से जवाब तलब

मेरठ। कार्यालय संवाददाता

लॉकडाउन के दौरान शहर में अवैध निर्माण की फसल खड़ी हो गई। गुपचुप ढंग से अवैध निर्माणकर्ताओं ने इमारतें तान दीं और सरकारी अमले को कानों कान भनक तक नहीं लगी। शहर से लेकर देहात तक किए गए अवैध निर्माण पर शासन तक पहुंचे मामले के बाद अब प्रभारियों से जवाब तलब किया गया है।

कोरोना के चलते लॉकडाउन के कारण बाजार, उद्योग और दुकानें बंद रहीं। बावजूद इसके कुछ रसूखदारों ने पर्दे और तिरपाल डालकर भीतर-भीतर इमारतें खड़ी कर दीं। मेरठ विकास प्राधिकरण के अफसरों, कर्मचारियों की भी लॉकडाउन में सामुदायिक रसोई व श्रमिकों को ले जाने में ड्यूटी लगी थी। अफसर और कर्मचारी व्यवस्था बनाने में जुटे रहे जबकि अवैध निर्माणकर्ताओं ने बिना मानचित्र स्वीकृत कराए अवैध निर्माण की फसल लहलहा दी। सच संस्था अध्यक्ष संदीप पहल ने मेरठ विकास प्राधिकरण की सीमा में विस्तार के साथ शहरभर में हुए अवैध निर्माण की शिकायत शासन से की है। उन्होंने कहा कि कई सफेदपोश अवैध निर्माण को बढ़ावा दे रहे हैं। नियम कायदों को ताक पर रखकर एमडीए में सांठगांठ के जरिए लॉकडाउन के दौरान कई इमारतें तान दी गई। मामले में कमिश्नर ने प्राधिकरण अफसरों से कड़ी नाराजगी जताते हुए ब्योरा तलब किया है। एमडीए उपाध्यक्ष मृदुल चौधरी ने बताया कि नियम कायदों के विपरीत किसी भी तरह के अवैध निर्माण को पनपने नहीं दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि मामले में चारों जोन प्रभारियों से रिपोर्ट मांगी है। अवैध निर्माण के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

संबंधित खबरें