DA Image
28 अक्तूबर, 2020|2:15|IST

अगली स्टोरी

बाबरी ढांचा विध्वंस फैसला: फोर्स रही तैनात, सड़कों पर रहे अधिकारी

बाबरी ढांचा विध्वंस फैसला: फोर्स रही तैनात, सड़कों पर रहे अधिकारी

मेरठ। मुख्य संवाददाता

बाबरी ढांचा विध्वंस को लेकर बुधवार को फैसला आया। इसे लेकर वेस्ट यूपी में अलर्ट जारी किया गया था। सुबह से सभी पुलिस-प्रशासनिक अधिकारी लगातार अपडेट ले रहे थे और फोर्स तैनात कर दी गई। दोपहर 12 बजे के आसपास आला अधिकारियों ने बेगमपुल पर डेरा डाल दिया।

कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए सभी 32 आरोपियों को बरी कर दिया। बुधवार को फैसले की घड़ी थी, इसलिए वेस्ट यूपी में पहले से ही इसे लेकर अलर्ट जारी किया गया था। जिन जगहों पर पूर्व में हिंसा हुई थी, उन जगहों को चिह्नित करते हुए सुबह से फोर्स लगा दिया गया। एडीजी राजीव सबरवाल ने पूरे जोन में अलर्ट जारी करते हुए एसएसपी/एसपी को निगरानी बढ़ाने के लिए कहा था। सुबह से अधिकारियों ने इनपुट लेना शुरू कर दिया। जैसे ही फैसला सुनाया गया, कमिश्नर अनीता सी.मेश्राम, एडीजी राजीव सबरवाल, आईजी प्रवीण कुमार, डीएम के.बालाजी और एसएसपी अजय साहनी बेगमपुल चौकी पहुंच गए। यहीं से सभी जिलों का इनपुट लेना शुरू कर दिया। इसके बाद शहर में सभी अधिकारी निरीक्षण पर निकले और दोबारा बेगमपुल पहुंच गए। एसएसपी और डीएम दोनों एक ही कार में हापुड़ अड्डे और भूमिया पुल पर पहुंचे। यहां फोर्स की तैनाती देखी और अलर्ट रहने के निर्देश दिए। इस दौरान पीएसी और आरएएफ को लगाया गया था। हालांकि फैसले के बाद सब कुछ सामान्य रहा।

-------

रात से ही खुफिया विभाग अलर्ट

संवेदनशील जगहों पर रात को ही खुफिया विभाग के कर्मचारियों को लगा दिया गया था। इनपुट जुटाया जा रहा था। चूंकि मेरठ में 20 दिसंबर को पीएफआई और एसडीपीआई ने बवाल कराया था, इसलिए आशंका थी कि कोई संगठन सक्रिय हो सकता है। ऐसे में तमाम जानकारी जुटाई जा रही थी। हालांकि सब कुछ सामान्य रहा।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Babri structure demolition decision force deployed officers on roads