DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  मेरठ  ›  नगर निगम में मृत्यु प्रमाण पत्र के सारे रिकार्ड ध्वस्त

मेरठनगर निगम में मृत्यु प्रमाण पत्र के सारे रिकार्ड ध्वस्त

हिन्दुस्तान टीम,मेरठPublished By: Newswrap
Tue, 01 Jun 2021 04:00 AM
नगर निगम में मृत्यु प्रमाण पत्र के सारे रिकार्ड ध्वस्त

मेरठ। मुख्य संवाददाता

कोरोना का कहर और अन्य बीमारियों के कारण नगर निगम में मृत्यु प्रमाण पत्र को लेकर सारे रिकार्ड ध्वस्त हो गए। नगर निगम के गठन के बाद से अब तक कभी भी अप्रैल-मई के महीने में इतने मृत्यु प्रमाण पत्र नहीं बने, जितने वर्ष 2021 में बने। मई में 1810 मृत्यु प्रमाण पत्र जारी हो चुके हैं, जबकि अप्रैल में 902 प्रमाण पत्र जारी किए गए। इस तरह दो महीने में नगर निगम से 2712 मृत्यु प्रमाण पत्र जारी किए जा चुके हैं, जो एक रिकार्ड है।

अप्रैल के महीने में नगर निगम में कुल 959 आवेदन मृत्यु प्रमाण पत्र के जमा हुए, जिसमें से 902 प्रमाण पत्र 30 अप्रैल तक जारी कर दिए गए। मई के महीने में 31 तारीख तक 1877 आवेदन जमा हुए, जिसमें से 1810 मृत्यु प्रमाण पत्र जारी हो चुके। नगर निगम के रिकार्ड में इतने सारे मृत्यु प्रमाण पत्र अब तक निगम के इतिहास में कभी नहीं बने। चार मई से 31 मई के बीच नगर निगम में कोरोना के कारण मृत्यु के 287 आवेदन जमा हुए। इस तरह कोरोना संक्रमण काल में मृत्यु के सारे रिकार्ड ध्वस्त हो गए हैं। निगम के रिकार्ड में इतने सारे प्रमाण पत्र कभी नहीं बने। अर्थात दो माह के 61 दिनों में 2712 मृत्यु प्रमाण पत्र जारी हुए। औसत हर दिन 44 मृत्यु प्रमाण पत्र।

--------------------

दिल्ली, गुरुग्राम में हुई मौत तो वहीं से जारी होगा प्रमाण पत्र

नगर निगम से केवल उनका ही मृत्यु प्रमाण पत्र जारी हुआ है, जिनकी मृत्यु महानगर क्षेत्र में हुई। यदि कोई व्यक्ति मेरठ का है तो उनकी मृत्यु दिल्ली, गुरुग्राम अथवा किसी अन्य शहर में हुई है तो उनका प्रमाण पत्र उन शहरों से ही जारी हो रहा है। अधिकारियों के अनुसार शासन के निर्देश के तहत ऐसा ही हो रहा है। मेरठ के बहुत सारे लोगों का दिल्ली, नोएडा, गुरुग्राम के अस्पतालों में निधन हुआ है तो उनका प्रमाण पत्र वहीं से जारी किया जा रहा।

संबंधित खबरें