DA Image
28 सितम्बर, 2020|10:22|IST

अगली स्टोरी

सीबीआई जांच में ही खुल सकते है नकली पुस्तक प्रकरण के सभी पन्ने

सीबीआई जांच में ही खुल सकते है नकली पुस्तक प्रकरण के सभी पन्ने

एनसीईआरटी की नकली पुस्तकों के मामले के भंडाफोड़ होने के बाद शहर के कुछ प्रकाशन कंपनियों से जुड़े लोगों का कहना है कि इस मामले में सीबीआई ही दूध का दूध और पानी का पानी कर सकती है। इस धंधे की लंबी चेन के खुलासे के लिए सीबीआई को लगा देना चाहिए। मेरठ में ही एजेंटों से लेकर अन्य लोगों को चिहिन्त करना होगा। अभी जो लोग सामने आए हैं, वह नकली किताबों की चेन के चंद लोग हैं। काफी समय से चले रहे इस गोरखधंधे से जुड़े लोगों की अंतिम कड़ी तक पहुंचकर पूरा खुलासा करना चाहिए।

शहर के कई प्रकाशकों से हिन्दुस्तान ने बात की। प्रकाशकों ने कहा कि पूरे मामले का सही-सही खुलासा होना चाहिए। ऐेसे में पेपर मिलों से लेकर डीलरों, प्रिटिंग यूनिट समेत पूरी चेन खंगाली होगी। मेरठ के कुछ प्रकाशकों का कहना है कि स्थानीय पुलिस और अन्य विभागों के जांच के बजाए सीबीआई जांच होनी चाहिए। सीबीआई की जांच में ही पूरी चेन सामने आएगी।

दूसरी ओर, मेरठ बुक सेलर एसोसिएशन पदाधिकारियों की बैठक हुई। बैठक का संचालन राजेश गुप्ता, अवधेश रस्तोगी ने किया। बैठक में राहुल गुप्ता, एसोसिएशन अध्यक्ष आशीष धस्माना मौजूद रहे। एनसीआईआरटी पुस्तकों का मामला सामने आने ने सभी विक्रेताओ को एसोसिएशन द्वारा जारी किए गए पत्र की जानकारी दी। जिसमे एसोसिएशन द्वारा अपने विक्रेताओ को निर्देश जारी किए गए हैं कि नकली एनसीईआरटी पुस्तकों की बिक्री करने वाले विक्रेता का एसोसिएशन द्वारा बहिष्कार किया जाएगा। कोई भी विक्रेता नकली पुस्तकों को मुद्रण करने वाले व्यक्तियों के लालच में न आए तथा सोच समझकर पुस्तकें थोक में खरीदें।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:All pages of fake book case can be opened only in CBI investigation