DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आसान नहीं अब मेरठ से हवाई उड़ान

लगता है कि मेरठ से हवाई उड़ान का सपना शायद सपना ही रह जाएगा। हवाई उड़ान के लिए एयरपोर्ट ऑथोरिटी के अनुसार दो चरणों में अब 405 एकड़ से अधिक जमीन चाहिए, जो आसान नहीं है। वैसे हवाई उड़ान के लिए तीसरी बार हवाई पट्टी का मास्टर प्लान बना है।

एयरपोर्ट ऑथोरिटी की ओर से 2014 से मेरठ से हवाई उड़ान की कवायद की जा रही है। तत्कालीन केन्द्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री अजित सिंह ने मेरठ से उड़ान की घोषणा की थी। बाद में एयरपोर्ट विकसित करने को लेकर चार जुलाई, 2014 को एएआइ के साथ प्रदेश सरकार ने समझौता-पत्र पर हस्ताक्षर किया था और इसी कड़ी में मौजूदा लगभग 47 एकड़ की जमीन पर फैली हवाई पट्टी को एएआइ को सौंप दिया गया था। बाद में एयरपोर्ट ऑथोरिटी ने प्रदेश सरकार को कुल 503 एकड़ जमीन हवाई अड्डे के लिए अधिग्रहण का प्रस्ताव दिया। शासन से अधिग्रहण के लिए कुछ पैसा भी जारी हुआ था, लेकिन मामला ठंडे बस्ते में रहा। तब किसानों को 5600 रुपये के रेट से अधिग्रहण पर प्रशासन ने राजी भी किया था। लगभग 920 करोड़ रुपया खर्च होने का तब अनुमान लगाया गया। इस बीच एयरपोर्ट आथोरिटी की ओर से एक कंपनी को हवाई उड़ान की संभावनाओं की तलाश करने की जिम्मेदारी दी गई। कंपनी ने सर्वे कर मेरठ में हवाई अड्डे को घाटे का सौदा बताते हुए एयरपोर्ट ऑथोरिटी को रिपोर्ट दे दी। बाद में एयरपोर्ट ऑथोरिटी के अनुसार संशोधित मास्टर प्लान जारी किया गया, जिसमें 454 एकड़ जमीन की आवश्यकता जताई गई। मामला ठंडे बस्ते में रहा। अब लोकसभा चुनाव की घोषणा से पूर्व केन्द्र सरकार की उड़ान योजना के तहत मेरठ से लखनऊ और मेरठ से प्रयागराज के लिए गुरुग्राम की कंपनी जूम एयर का चयन किया गया।

एयरलाइंस के चयन के बाद अब एयरपोर्ट ऑथोरिटी ने उड़ान के लिए दो चरणों में 405.13 एकड़ जमीन उपलब्ध कराने का आग्रह किया है। इसके साथ ही हवाई पट्टी का नया मास्टर प्लान जारी किया है।

अब प्रदेश सरकार के पाले में गेंद

अब एक बार फिर मेरठ हवाई पट्टी से उड़ान का मामला प्रदेश सरकार के पाले में आ गया है। जमीन उपलब्ध कराने की बड़ी जिम्मेदारी प्रदेश सरकार की है।

सरकार से है उम्मीद

मेरठ हवाई पट्टी के विकास के लिए जमीन उपलब्ध कराने की जिम्मेदारी निश्चित तौर से प्रदेश सरकार की है। सरकार से उम्मीद है कि मेरठ की जनता के लिए जमीन देने का निर्णय होगा

- डा.लक्ष्मीकांत वाजपेयी, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष, भाजपा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:airport