DA Image
Monday, November 29, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेश मेरठडबल मर्डर: छह साल बाद इंसाफ की जगी उम्मीद

डबल मर्डर: छह साल बाद इंसाफ की जगी उम्मीद

हिन्दुस्तान टीम,मेरठNewswrap
Fri, 29 Oct 2021 03:50 AM
डबल मर्डर: छह साल बाद इंसाफ की जगी उम्मीद

मेरठ। मुख्य संवाददाता

प्रवीण शर्मा और राजीव शर्मा उर्फ टुर्री की हत्या में छह साल बाद इंसाफ की उम्मीद जगी है। दोनों मौसेरे भाई थे। इनकी 24 अप्रैल 2015 को गला दबाकर हत्या कर दी गई थी लेकिन पुलिस ने आज तक कोई मुकदमा नहीं दर्ज किया। अब छह साल बाद इस मामले में ब्रह्मपुरी थाने में आला पुलिस अधिकारियों के आदेश पर हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया है। लाश तलाशने के लिए पुलिस टीम को लगाया गया है।

यह था मामला

ब्रह्मपुरी में वसूली को लेकर अंजाम दिए गए ट्रिपल मर्डर में प्रवीण शर्मा आरोपी था। प्रवीण शर्मा बदन सिंह बद्दो का खास आदमी था। प्रवीण शर्मा का एक अपराधी विनय त्यागी उर्फ प्रमुख से बड़ी रकम के बंटवारे को लेकर विवाद चल रहा था। 24 अप्रैल 2015 को प्रवीण अपने मौसेरे भाई राजीव शर्मा उर्फ टुर्री के साथ आरटीओ गया। यहां से दोनों भाई कभी वापस नहीं आए। इस संबंध में राजीव के भाई योगेंद्र भारद्वाज की ओर से पुलिस को वर्ष 2015 में कई बार शिकायत देते हुए हत्या की आशंका जताई गई, लेकिन कार्रवाई नहीं हुई।

हाईकोर्ट गए परिजन

पुलिस कार्रवाई नहीं होने पर पीड़ित परिवार हाईकोर्ट चला गया। पुलिस अधिकारियों से जवाब भी मांगा गया। साथ ही योगेंद्र भारद्वाज ने एडीजी राजीव सबरवाल और एसएसपी प्रभाकर चौधरी से भी शिकायत की। इसके बाद मुकदमा दर्ज करने के लिए सबूत जुटाने का काम शुरू किया गया। योगेंद्र की तहरीर पर ब्रह्मपुरी थाने में 27 अक्तूबर 2021 को विनय त्यागी और मोनू त्यागी समेत कुछ अज्ञात के खिलाफ हत्या और साक्ष्य मिटाने का मुकदमा दर्ज किया गया है।

विनय त्यागी ने कुबूला था जुर्म

योगेंद्र भारद्वाज ने बताया कि 30 जुलाई 2017 को देहरादून के प्रेमनगर में विनय त्यागी को गिरफ्तार किया गया। इस दौरान विनय त्यागी ने कबूल किया कि उसने प्रवीण शर्मा और राजीव की गला दबाकर हत्या कर दी और इसके बाद लाश को पत्थर बांधकर गढ़ रोड पर नहर में फेंक दिया। इसी आधार पर जांच आगे बढ़ाई जा रही है।

खुलासे को बनाई टीम

एसएसपी प्रभाकर चौधरी ने इस केस के खुलासे के लिए इंस्पेक्टर ब्रह्मपुरी और उनके दो दरोगा को लगाया है। एक टीम का गठन इस मामले में साक्ष्य जमा करने, विनय त्यागी से पूछताछ करने व अन्य जानकारी के लिए लगाई गई है। साथ ही इस मामले में अन्य आरोपियों की तलाश की जाएगी। जिस जगह पर प्रवीण और उसके भाई का नंबर आखिरी बार चलाया गया, वहां भी पुलिस जांच के लिए जाएगी।

वर्जन:::

मामले में शिकायत के बाद मुकदमा दर्ज कराया गया है। पुलिस टीम को जांच का निर्देश दिया गया है। जो भी तथ्य सामने आएंगे, उनके अनुसार कार्रवाई की जाएगी।

प्रभाकर चौधरी, एसएसपी मेरठ

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें