DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › मऊ › पारा लुढ़कने व सर्द पछुवा हवा चलने से जन-जीवन हुआ बेहाल
मऊ

पारा लुढ़कने व सर्द पछुवा हवा चलने से जन-जीवन हुआ बेहाल

हिन्दुस्तान टीम,मऊPublished By: Newswrap
Wed, 27 Jan 2021 06:00 PM
पारा लुढ़कने व सर्द पछुवा हवा चलने से जन-जीवन हुआ बेहाल

मऊ । निज संवाददाता

जिले में ठंड का कहर अभी बरकरार है। पारा लुढ़कने और सर्द पछुआ हवाओं के चलते गलन बढ़ गई है, इससे आमजन ही नहीं पशु-पक्षी भी बेहाल हो गए हैं। हालत यह रहा कि बुधवार को सर्द हवाएं चलने से सिहरन बढ़ गई और लोग पूरे दिन कंपकंपाते नजर आए। वहीं दूसरी तरफ जगह-जगह अलाव जलाकर लोग गर्मी ले रहे हैं, बावजूद इसके सर्द हवाएं चलने से यह अलाव भी नाकाफी साबित होते नजर आए। बुधवार को जिले का अधिकतम तापमान 18 डिग्री सेंटीग्रेड रहा, जबकि न्यूनतम तापमान 9 डिग्री सेंटीग्रेड दर्ज किया गया।

नगर समेत ग्रामीण अंचलों में सर्दी का सितम थमने का नाम नहीं ले रहा है। पिछले दो दिनों से एक तरफ जहां तापमान गिरा रहा, वहीं दूसरी तरफ ठंडी हवाएं चलती रहीं। बुधवार को सुबह की शुरुआत कोहरे की धुंध के साथ हुआ। लेकिन अपरान्ह तक कोहरा तो छट गया, लेकिन ठंडी हवाएं पूरे दिन चलता रहा। विभिन्न सार्वजनिक स्थानों पर लोगों की चहल-पहल भी काफी कम नजर आया, सिर्फ आवश्यक कार्य को लेकर ही लोग घरों से बाहर निकलते हुए नजर आए। सर्द हवाओं से लोग कंपकंपाते उठे। सर्दी के मौसम में सबसे बुरा हाल दिन ढलने के बाद नजर आया। शाम को पारा लुढ़कने के कारण सड़कों पर वाहनों का आवागमन भी काफी मुश्किल से होता नजर आया। शाम आठ बजे के बाद कड़ाके की ठंड की वजह से लोग घरों में कैद नजर आए। बहुत कम ही लोग सड़कों पर नजर आ रहे थे। गलन से सभी लोग थर-थर कांपते नजर आए। आम आदमी तो ऊनी कपड़े पहने हुए थे, लेकिन ठंड के मौसम में सबसे ज्यादा बुरा हाल गरीबों के सामने रहा। ऊनी कपड़ों व वस्त्र के अभाव में विभिन्न सार्वजनिक स्थानों पर गरीब ठिठुरते नजर आए। इस बार ठंड के मौसम में स्वयंसेवी संस्थाएं भी कुछ खास कवायद नहीं करते नजर आए। वहीं दूसरी तरफ नगर पालिका व जिला प्रशासन द्वारा कंबल का वितरण भी नाकाफी साबित हो रहा है। ठंड के मौसम में सबसे ज्यादा परेशानी रोज कमाने-खाने वालों को उठानी पड़ रही है।

संबंधित खबरें