ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेश मऊभागवत कथा सुनकर ही होता है कर्तव्यों का बोध : भार्गव मुनीश

भागवत कथा सुनकर ही होता है कर्तव्यों का बोध : भार्गव मुनीश

बड़रॉव ब्लाक क्षेत्र के मादी बाजार स्थित कोयल मर्याद भवानी मंदिर पर नव जागृत सेवा संस्थान के तत्वावधान में चल रही नौ दिवसीय भगवत कथा के सातवें दिन...

भागवत कथा सुनकर ही होता है कर्तव्यों का बोध : भार्गव मुनीश
हिन्दुस्तान टीम,मऊTue, 02 Jan 2024 02:15 PM
ऐप पर पढ़ें

मऊ । संवाददाता
बड़रॉव ब्लाक क्षेत्र के मादी बाजार स्थित कोयल मर्याद भवानी मंदिर पर नव जागृत सेवा संस्थान के तत्वावधान में चल रही नौ दिवसीय भगवत कथा के सातवें दिन सोमवार की शाम सीओ घोसी दिनेशचंद मिश्रा परिजनों संग कथा व्यासपीठ का पूजन कर शुभारंभ किया। मंदिर परिसर में कथा सुनने के लिए भारी संख्या श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ रही है। इस समय कथा से पूरा वातावरण भक्तिमय बना हुआ है।

सातवें दिन कथावाचक भार्गव मुनीश ने कहा कि मनुष्यों का क्या कर्तव्य है, इसका बोध भागवत सुनकर ही होता है। विडंबना ये है कि मृत्यु निश्चित होने के बाद भी हम उसे स्वीकार नहीं करते हैं। निष्काम भाव से प्रभु का स्मरण करने वाले लोग अपना जन्म और मरण दोनों सुधार लेते हैं। कथा व्यास ने कहा कि प्रभु जब अवतार लेते हैं तो माया के साथ आते हैं। साधारण मनुष्य माया को शास्वत मान लेता है और अपने शरीर को प्रधान मान लेता है। जबकि शरीर नश्वर है। उन्होंने कहा कि भागवत बताती है कि कर्म ऐसा करो जो निष्काम हो, वहीं सच्ची भक्ति है। कथा आगे बढ़ाते हुए कहा कि मनुष्य को हमेशा अपनों के दुःख में साथ देना चाहिए पर आज का व्यक्ति इसका उल्टा ही कर रहा है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें