Mou Water levels of Ghaghra begin to increase for the third time - मऊ: घाघरा का जलस्तर तीसरी बार बढ़ना शुरू DA Image
9 दिसंबर, 2019|12:39|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मऊ: घाघरा का जलस्तर तीसरी बार बढ़ना शुरू

मऊ: घाघरा का जलस्तर तीसरी बार बढ़ना शुरू

घाघरा का जलस्तर तेजी से घटने के बाद तीसरी बार फिर बढ़ना शुरू हो गया है। सबसे भयावह स्थिति नवली गांव के समीप हो गयी है। हाल यह है कि लाला की उपजाऊ भूमि तो कट ही रही है, इससे रिंग बन्धों को भी खतरा हो गया है। वहीं जलस्तर बढ़ने से शाही मस्जिद के बास नदी का जलस्तर दबाव बनाने लगा है। जिसे देख लोगों में भय का माहौल है।

बुधवार की शाम छह बजे घाघरा का जलस्तर 68.45 मीटर हो गया था। जबकि चार बजे 68.55 मीटर था। वहीं गुरुवार की शाम चार बजे घाघरा का जलस्तर बढ़कर 68.60 सेमी हो गया। जबकि खतरा विन्दु 69.90 मीटर है। घाघरा का जलस्तर बढने से एक बार फिर तटवर्ती इलाके के लोगों की धड़कने फिर हुईं तेज हो गयी हैं। सबका यही कहना है कि अभी बारिश के कहर से हम लोग उबरे हैं। अब कहीं बाढ़ का कहर भी न झेलना पड़े। नहीं तो हम लोग भूखे मर जाएंगे। इधर घाघरा के बढ़ते जलस्तर को देखते हुए यही लगता है कि इस बार कस्बे के रामघाट पर बचे रेत भी नदी की धारा में कटकर विलीन न हो जाएगा। जबकि यहां नदी दिन पर दिन गहरी होती जा रही है। जिसका कारण शाही मस्जिद के पास बना ठोकर है, जो शाही मस्जिद को भी नुकसान पहुंचा रहा है और रामघाट पर भी रेत को काट रहा है। जबकि कस्बे का एकमात्र यही रेत का घाट रामघाट है जहां लोग स्नान कर रहे हैं। इधर नवली गांव के समीप हो रही कटान से गांव वासी काफी भयभीत हो गये हैं। बाढ़ खण्ड आजमगढ़ के एक्सईएन दीपक कुमार का कहना है कि हम गांव को कटने नही देंगे। जबकि यह गांव सीधे रिंग बंधे के पास है। वहीं तीसरी बार यह गांव बसाया गया है। घाघरा के बढ़ते जलस्तर को लेकर प्रशासन भी पुरी तरह से एलर्ट है। बाढ़ चौकियों पर बेलदारो की तैनाती कर दी गयी है, जो लगातार घाघरा के बढ़ते जलस्तर की रिपोर्टिंग करके अधिकारियों को अवगत करा रहे हैं।

कटान से रिंग बांध को खतरा

कोरौली। चिऊटीडाढ़ व नईबाजार के सामने नदी ने खेतों में भी कटान तेज कर दिया है तथा वह गांव के नजदीक आती जा रही है। दूसरी ओर ग्राम नवली के किसानों की उगाई हुई फसल नदी में कट कटकर निरन्तर गिर रही है। प्रशासन ने कटान रोकने के लिए अभी तक कुछ नहीं किया है। दूसरी तरफ रिंग बांध का अस्तित्व भी खतरे में है। बीबीपुर बन्धे के समीप नदी ने अपना रौद्र रूप दिखाना शुरू कर दिया है। नदी द्वारा बन्धे के समीप कटान तेज कर दी है, जिससे लोगों में भय समाहित हो गया है कि अगर बंधा कटा तो बीबीपुर, नगरीपार, सरया,बहादुरपुर, कुरंगा, ठाकुरगांव सहित दर्जनों गांवों में घाघरा का पानी घुस जाएगा। जिससे स्थिति विकट हो जाएगी। लोगों ने प्रशासन से मांग की है कटान रोकने के लिए उचित प्रबंध किया जाए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Mou Water levels of Ghaghra begin to increase for the third time