DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सदन में वाद-विवाद लोकतंत्र का हिस्सा : राज्यपाल

सदन में वाद-विवाद लोकतंत्र का हिस्सा : राज्यपाल

उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक ने कहा कि सदन में वाद-विवाद लोकतंत्र का हिस्सा है। इससे देश व प्रदेश में स्वस्थ समाज के विकास के साथ-साथ एक दूसरे की विचारधाराएं भी सामने आती हैं। उन्होंने विधानसभा में अपने ऊपर फेंके गये कागज के गोलों का भी जिक्र करते हुए कहा कि विरोध इस तरह होना चाहिए कि काम में बाधा न पड़े। उन्होंने उत्तर भारतीयों के मुम्बई में मेहनत का जिक्र करते हुए कहा कि यदि लोग अपने गांवों में मेहनत करें तो यहां का भी विकास तेजी से हो सकता है। नाईक गुरुवार को मझवारा स्थित राजकुमारी शिक्षण एवं प्रशिक्षण संस्थान के प्रांगण में स्व. रामकमल राय व स्व. राजकुमारी राय की प्रतिमा के अनावरण कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में बोल रहे थे। राम नाईक ने स्व. राय को शिक्षा का सजग प्रहरी बताया। कहा कि शिक्षा के बिना देश का विकास नहीं हो सकता है। स्वर्गीय राय अपनी मातृ भाषा को लेकर सदैव गम्भीर रहे। उन्होंने कहा कि समाज व देश में राय की तरह किये गये योगदान को हमेशा लोगों को याद रखना चाहिए। अपने गांव व समाज के लिए हमेशा प्रयत्नशील होना चाहिए। उन्होंने इस कार्यक्रम के आयोजन के लिए स्व.राय के बेटे व डा.शकुंतला मिश्रा राष्ट्रीय पुनर्वास विश्वविद्यालय के कुलपति निशिथ राय को बधाई भी दी। कार्यक्रम में पूर्व राज्यमंत्री व भाजपा नेता उत्पल राय ने धन्यवाद ज्ञापित किया। कार्यक्रम में रेल राज्य व संचार मंत्री मनोज सिन्हा, सूबे की मंत्री रीता बहुगुणा जोशी, मंत्री नंदगोपाल गुप्ता नंदी, महेंद्र पांडेय, सांसद हरिनरायन राजभर, विधायक फागू चौहान आदि मौजूद रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Debate in the House is part of democracy: Governor