DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वृंदावन शोध संस्थान भवन का होगा सौंदर्यकरण

वृंदावन शोध संस्थान के सुदृढ़ीकरण के लिए शासन ने बजट में एक करोड़ रुपये का प्रस्ताव स्वीकृत किया है। इस धनराशि से संस्थान की जर्जर चाहरदीवार की मरम्मत के साथ ही भवन की मरम्मत और एक पानी के टैंक का निर्माण कराया जाएगा। संस्थान के डायरेक्टर सतीश चंद्र दीक्षित ने बताया कि शासन द्वारा बजट में पास की गई इस धनराशि से वृंदावन शोध संस्थान के भवन की मरम्मत की जाएगी। इस तरह का प्रस्ताव करीब एक दशक से अधिक समय से शासन को भेजा रहा था। अब प्रदेश के संस्कृति मंत्री लक्ष्मीनारायण चौधरी ने बजट में इसे स्वीकृति प्रदान कराने में अहम भूमिका निभाई है। संस्थान के डायरेक्टर और कर्मचारियों ने प्रदेश के मुख्यमंत्री व संस्कृति मंत्री का आभार जताया है। बताते चलें कि शोध संस्थान की स्थापना 24 नवंबर 1968 में हुई थी। यहां करीब 35000 पाण्डुलिपियां संरक्षित हैं। सबसे पुरानी पांडुलिपी 14 वीं शताब्दी की है। इसके अलावा ताड़पत्र पर लिखित पांडुलिपियों का कालखंड विभाजन अभी नहीं हो सका है। यह संभवत: 14वीं शताब्दी से भी पुरानी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Vrindavan Research Institute recruitment to one crore rupees