DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › मथुरा › एक भक्तिमति महिला थीं बनीठनी: डा.चित्रलेखा
मथुरा

एक भक्तिमति महिला थीं बनीठनी: डा.चित्रलेखा

हिन्दुस्तान टीम,मथुराPublished By: Newswrap
Sun, 26 Sep 2021 07:31 PM
एक भक्तिमति महिला थीं बनीठनी: डा.चित्रलेखा

गोदा विहार मन्दिर स्थित ब्रज संस्कृति शोध संस्थान द्वारा प्रकाशित पुस्तक बनीठनी: प्रेमकथा से चित्रकला तक का विमोचन भगवान लक्ष्मीनारायण के सान्निध्य में मेवाड़ विश्वविद्यालय के कला संकाय की निदेशक डा. चित्रलेखा सिंह द्वारा किया गया।

उन्होंने कहा कि बनीठनी एक भक्तिमति महिला थीं। साहित्य और कला जगत की उदासीनता के चलते वे ख्याति प्राप्त नहीं कर सकीं। ब्रज संस्कृति शोध संस्थान ने उन पर केन्द्रित पुस्तक बनीठनी को प्रकाशित कर उन के सम्मान की पुनर्प्रतिष्ठित करने का जो कार्य किया है वह सराहनीय है। नर्मदा प्रसाद उपाध्याय ने बड़ी ही रोचक शैली में इस पुस्तक का लेखन किया है। विशिष्ट अतिथि ओडिसी नृत्यांगना कुंजलता मिश्रा ने कहा कि संस्थान ब्रज की संस्कृति के उत्थान के लिए निरन्तर कार्य कर रहा है। वह उससे बेहद प्रभावित हैं। सचिव लक्ष्मीनारायण तिवारी ने बताया कि बनीठनी के संदर्भ में दुर्लभ सामग्री व चित्रों के साथ-साथ उनके पदों को भी प्रकाशित किया गया है। इस अवसर पर एसके शर्मा, शाश्वत तिवारी, विश्वजीत दास, ब्रजगोपाल चित्रकार, आनंद पुजारी, मदनमोहन शर्मा, मोहन नेपाल, वर्षा आचार्य आदि थे। संचालन गोपाल शरण शर्मा ने किया।

संबंधित खबरें