The pile of garbage in place of Vrindavan - वृंदावन में जगह-जगह कूड़े के ढेर, कचरे से भरे नाले DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वृंदावन में जगह-जगह कूड़े के ढेर, कचरे से भरे नाले

धार्मिक नगरी वृंदावन में जगह-जगह कूड़े के ढेर लगे हैं। नाले कचरे से भरे हुए हैं। इससे श्रद्धालुओं की भावनाएं आहत हो रही हैं। स्थानीय लोगों में रोष व्याप्त है।

बांके बिहारी मंदिर, परिक्रमा मार्ग, किशोरपुरा मार्ग, रंगजी क्षेत्र, रेलवे स्टेशन रोड, राधा निवास, गौरा नगर, गोविंददेव मंदिर क्षेत्र, रमणरेती क्षेत्र, आठखंभा क्षेत्र और वंशीवट क्षेत्र में सफाई अव्यवस्था के कारण गंदगी व्याप्त है। इससे मच्छरों ने जीना दुश्वार कर दिया है। श्रद्धालु मुंह पर कपड़ा रखकर मार्गों से निकलने को मजबूर हैं। वहीं नगर के अधिकांश नाले कचरे से भरे हैं। लंबे समय से नालों की सफाई कार्य न होने के कारण नालों के ऊपर लोगों ने अवैध कब्जे व निर्माण करा लिए हैं। बारिश आने की स्थिति में जलभराव की आशंका बनी हुई है। सीवर और नालों का दूषित पानी नगर के बड़े नालों से सीधे यमुना में जा रहा है। करीब छह से आठ फुट गहरे नाले कचरे से भर गए हैं।

कहां करें शिकायत

आचार्य नरेश नारायण का कहना है कि नगर निगम बनने के बाद नगर और अधिक बदहाल हो गया है। वृंदावन जोन कार्यालय में अधिकारियों के नदारद रहने से नगरवासी शिकायत किससे करें। ब्रजेश शर्मा गली वाले ने रोष व्यक्त करते हुए कहा कि नगर निगम बनने के बाद नगर की स्थिति बिगड़ी है। कहीं भी केंद्र सरकार के स्वच्छ भारत अभियान का असर नहीं दिखता है।

डेढ़ लाख की आबादी, मात्र 150 कर्मचारी

वृंदावन। वृंदावन के दायरे और आबादी में इजाफा हो रहा है, लेकिन सफाई कर्मियों की संख्या घट रही है। इससे गंदगी फैली हुई है। नगर क्षेत्र में एक लाख श्रद्धालु व 57 हजार स्थानीय लोग रहते हैं। कई दशक से सफाई कर्मियों की भर्ती न होने के कारण उनकी संख्या में प्रतिवर्ष कम होती जा रही है। वर्तमान में नगर निगम के नगर में मात्र 55 कर्मी स्थाई है। वृंदावन जोन कार्यालय द्वारा कई वर्ष से 250 सफाई कर्मियों की मांग उच्चाधिकारियों से की जा रही थी। एक अप्रैल से डूडा द्वारा सौ सफाई कर्मचारी दिए गए। वर्तमान में मात्र 155 कर्मचारी हैं।

बोले सफाई निरीक्षक...

नगर क्षेत्र में जितने भी संसाधन हैं, उनसे सफाई कार्य करने का प्रयास किया जा रहा है। नगर को 250 कर्मियों की मांग उच्चाधिकारियों से की थी। डूडा द्वारा 100 कर्मचारी दिए गए। ठेके की समय सीमा समाप्त होने पर कार्य कर रहे 90 कर्मचारी हटा दिए गए।

अवधेश यादव, सफाई निरीक्षक

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:The pile of garbage in place of Vrindavan