ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेश मथुरास्वामी घाट नाला हुआ ओवर फ्लो, यमुना में गिरा प्रदूषण

स्वामी घाट नाला हुआ ओवर फ्लो, यमुना में गिरा प्रदूषण

मथुरा। यमुना में नालों का प्रदूषित जल को गिरने से रोकने के चाहे कितने ही दावे कर लिए जाएं, लेकिन नालों का पानी रोकोने में अभी तक सफलता नहीं मिल सकी...

स्वामी घाट नाला हुआ ओवर फ्लो, यमुना में गिरा प्रदूषण
Newswrapहिन्दुस्तान टीम,मथुराWed, 02 Jun 2021 04:41 AM
ऐप पर पढ़ें

मथुरा। यमुना में नालों का प्रदूषित जल को गिरने से रोकने के चाहे कितने ही दावे कर लिए जाएं, लेकिन नालों का पानी रोकोने में अभी तक सफलता नहीं मिल सकी है। बारिश के दिनों में नालों का उफन कर यमुना में प्रवाहित होना अलग बात है, लेकिन मंगलवार को बिना बारिश के ही स्वामी घाट का नाला उफन पड़ा। नाले के उफनने से यमुना में गंदगी प्रवाहित होती देख लोगों में आक्रोश व्याप्त हो गया। जानकारी मिलने पर नगर आयुक्त ने तत्काल सफाईकर्मियों को टीम को मौके पर भेज नाले का प्रवाह रुकवाया।

बता दें कि स्वामी घाट का नाला शहर के बीचों बीच हैं। स्वामी घाट से लेकर बंगाली घाट तक यमुना पर एक दर्जन से अधिक प्राचीन घाट है। ये वे घाट हैं, जहां श्रद्धालुओं का सर्वाधिक आगमन होता है। इसके बाद भी स्वामी घाट के नाले को उफनने से आज तक नहीं रोका जा सका है। शहर के बीचों बीच होने की वजह से नाला जब उफन कर यमुना में गिरता है तो भक्तों का भावनाएं सबसे ज्यादा आहत होतीं हैं। मंगलवार को भी यह नाला उफन पड़ा। नाले से उफनती गंदगी सीधे यमुना में प्रवाहित होती रही। इसके चलते असकुंडा घाट और विश्राम घाट तक गंदगी पहुंच गई। यह देख भक्तों में आक्रोश व्याप्त हो गया। उन्होंने नगर निगम के अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों को भला बुरा कहना शुरू कर दिया। सूचना मिलने पर नगर आयुक्त अनुनय झा ने नाराजगी व्यक्त की। उनके आदेश पर स्वच्छता टीम तत्काल स्वामी घाट पहुंची। यहां पहुंच टीम ने नाले की सफाई कराई। यमुना में गिर रहे नाले का प्रवाह जैसे-तैसे रोका गया। जानकारी करने पर बताया गया कि वर्तमान में सीवर लाइन डालने का काम चल रहा है। इसके चलते स्वामी घाट सीवेज पम्पिंग स्टेशन के संचालन में व्यवधान उत्पन्न हो रहा है। इस पम्पिंग स्टेशन पर क्षमता से अधिक नाले का प्रवाह आ रहा है, जिसके चलते नाला बार-बार ओवर फ्लो होकर यमुना में प्रवाहित हो रहा है। पिछले दिनों इस मामले को लेकर विश्व धर्म रक्षक दल के विजय चतुर्वेदी ने मुख्यमंत्री के पोर्टल पर शिकायत की थी। इस शिकायत में स्वामी घाट का नाला प्रमुख था। शिकायत में कहा गया था कि स्वामी घाट पर लगी जालियों को भी हटा दिया गया है। यही नहीं नाले लागातर प्रदूषित जल यमुना में गिर रहा है। कमोबेश यही हालात मसानी नाले के भी हैं।

epaper