DA Image
22 जनवरी, 2021|6:02|IST

अगली स्टोरी

प्राइवेट चिकित्सकों ने चिकित्सा संस्थान रखे बंद

राष्ट्रीय मेडिकल कमीशन बिल को लेकर प्राइवेट चिकित्सक दिल्ली में आयोजित डॉक्टर्स महापंचायत में भाग लेने पहुंचे। प्राइवेट चिकित्सकों ने अपने चिकित्सा संस्थान भी बंद रखे। इससे उपचार को आए मरीजों को बैंरग लौटना पड़ा। रविवार सुबह आईएमए अध्यक्ष डॉ.मुकेश जैन, सचिव डॉ.आशीष गोपाल, पूर्व अध्यक्ष डॉ.एसके वर्मन, डॉ.प्रकाश अग्रवाल, डॉ.बीएम गुप्ता, डॉ.मोहित गुप्ता, डॉ.गौरव भारद्वाज, डॉ.शंशाक माहेश्वरी, डॉ.राजकुमार चतुर्वेदी, डॉ.निधि जैन, डॉ.सुरेश अग्रवाल, डॉ.पंकज गुप्ता, डॉ.र्निविकल्प, डॉ.वीवी गर्ग, डॉ ज्योति, डॉ भावना, डॉ वर्तिका, डॉ.एसपी सिंह, डॉ.अनिल अग्रवाल, डॉ.बिजेन्द्र तिवारी, डॉ.वर्षा तिवारी, डॉक्टर गुलशन, डॉ.अंकित, डॉ.विक्की मित्तल, नेहा मित्तल, डॉ. केके अग्रवाल, डॉ.जॉय, डॉ.प्रीति, डॉ. प्रीत रंजन आदि चिकित्सकों ने दिल्ली में आयोजित महापंचायत में भाग लिया। जो चिकित्सक दिल्ली पंचायत में भाग लेने नहीं गए उन्होंने यहां अपने क्लीनिक बंद रखे और सेवाएं नहीं दीं। आईएमए अध्यक्ष डॉ. जैन ने बताया कि जनपद से एक सैकड़ा चिकित्सक महापंचायत में भाग लेने दिल्ली गए। यहां चिकित्सकों की सुरक्षा पर जोर देते हुए एनएमसी बिल वापस लेने की मांग की। मांग न माने जाने पर अगले माह से अनिश्चित कालीन हड़ताल का निर्णय लिया गया ।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Private Doctor's closed their hospital's