अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पुलिस ने साधु वेशधारी दो बंग्लादेशी वृंदावन से पकड़े

पुलिस ने साधु वेशधारी दो बंग्लादेशी वृंदावन से पकड़े

पुलिस और खुफिया विभाग ने वृंदावन में साधु के वेश में रह रहे दो बंग्लादेशियों को गिरफ्तार किया है। तलाशी के दौरान उनके पास से आधार कार्ड, पैनकार्ड, बैंक पासबुक आदि बरामद हुए हैं।

बुधवार को एसपी सिटी श्रवण कुमार सिंह ने बताया कि वृंदावन स्थित इस्कॉन मंदिर के पास कुछ बांग्लादेशियों के रहने की सूचना मिल रही थी। इस पर चौकी प्रभारी रमणरेती विपिन गौतम, एलआईयू के उप निरीक्षक कुंवरपाल सिंह ने पुलिस बल के साथ इस्कॉन मंदिर के पास किराए का कमरा लेकर रह रहे जोय देबनाथ पुत्र किरोनचन्द्र देबनाथ निवासी धामकी, देवीदुआर, कुमिला (बांग्लादेश), नोनी देवनाथ पुत्र रविन्द्र देव नाथ निवासी गंगानगर नूरमानिकचर, देवीद्वार जिला कुमेला (बांग्लादेश) को गिरफ्तार कर लिया। तलाशी के दौरान इनके पास से भारतीय आधार, पेनकार्ड, बैंक पासबुक के साथ ही बांग्लादेश के पासपोर्ट और वीजा बरामद हुए हैं।

एसपी सिटी ने बताया कि पकड़े गए बांग्लादेशी भारत में फर्जी तरीके से बनाए गए दस्तावेजों के आधार पर भारतीय पासपोर्ट बनवा रहे थे, लेकिन वह पुलिस वेरीफिकेशन में पकड़े गए। इनके फर्जी तरीके से आधार, पैन कार्ड बनवाने में सहयोग करने वाले राकेश गौर निवासी गोंदाआटस तथा शुभम निवासी गौरानगर चार संप्रदाय वृंदावन की तलाश की जा रही है। पुलिस इन्हें भी जल्द गिरफ्तार कर लेगी।

पकड़े गए बांग्लादेशियों के यहां पर बैंक खाते भी खुले हैं। बैंक खाता खुलवाने के लिए दो गारंटर की आवश्यकता पड़ती है, इसकी पुलिस जांच कर रही है कि इनके बैंक खाता खुलवाने में गारंटर कौन हैं। उनके खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी।

-श्रवण कुमार सिंह, एसपी सिटी

भारत के पासपोर्ट के सहारे अमेरिका जाना चाहते थे बांग्लादेशी

मथुरा। बुधवार को गिरफ्तार बांग्लादेशी युवक भारत के पासपोर्ट के सहारे अमेरिका में जॉब तलाशने के प्रयास में थे। यही कारण था कि वे बंगलादेश का पासोपोर्ट लेकर यहां आए और भारत से पासपोर्ट बनवाने की तैयारी में जुट गए। पुलिस अब उन लोगों की तलाश में है, जिन्होंने बांग्लादेशियों के आधार, पैन कार्ड बनवाए और बैंक अकाउंट खुलवाए थे।

पुलिस सूत्रों ने बताया कि जोय देबनाथ पुत्र किरोनचन्द्र देबनाथ निवासी धामकी, देवीदुआर, कुमिला (बांग्लादेश), नोनी देवनाथ पुत्र रविन्द्र देव नाथ निवासी गंगानगर नूरमानिकचर, देवीद्वार जिला कुमेला (बांग्लादेश) दोनों 11-12 जुलाई को बांग्लादेश से पासपोर्ट वीजा के साथ भारत पहुंचे। दोनों पर एक साल के लिए मल्टीपल वीजा था। अर्थात वे एक साल में कभी भी भारत आ-जा सकते थे। इस वीजा के तहत एक बार में 90 दिन से ज्यादा नहीं रुक सकते। 90 दिन होने से पहले अपने देश जाकर वापस यहां आ सकते थे। हालांकि उन्हें अभी यहां आए 90 दिन नहीं हुए, लेकिन वे कई अपराध के दोषी बन गए। जिनमें भारत के आधार, पैन कार्ड बनवाना आदि शामिल हैं।

सूत्रों ने बताया कि यहां आने का उनका मकसद भारत का पासपोर्ट हासिल करना था। आने के साथ ही उन्होंने इसका प्रयास शुरू कर दिया। इसके तहत उन्होंने पैन कार्ड और आधार कार्ड बनवा लिया। पासपोर्ट के दौरान जांच में बैंक पासबुक भी देखी जाती है तो उन्होंने बैंक अकाउंट भी खुलवा लिया। सारे कागजात होने के बाद उन्होंने पासपोर्ट के लिए अप्लाई कर दिया। जब पुलिस जांच हुई तो पकड़ में आ गए।

बीबीए है जोय

जोय बीबीए है और नोनी देवनाथ ज्यादा पढ़ा लिखा नहीं है। सूत्रों का कहना है कि जोय चाहता था कि भारत का पासपोर्ट बनने के बाद वह इसके सहारे अमेरिका या अन्य किसी देश में अच्छी नौकरी तलाश कर लेगा।

आने के साथ ही नहीं दी एलआईयू को सूचना

नियमानुसार किसी विदेशी को यहां आने पर एलआईयू के कार्यालय पहुंचकर अपने आने की सूचना देनी होती है। ये दोनों 12 जुलाई को यहां आ गए, लेकिन इन्होंने एलआईयू को अभी तक आने की सूचना नहीं दी।

ना जाने किस रूप में बंग्लादेशी मिल जाए

मथुरा। कान्हा की नगरी मथुरा में देश विदेश से आने वाले आने वाले श्रद्धालुओं में बांग्लादेशी को पहचानकर स्थानीय खुफिया इकाई व पुलिस अभी तक तीन दर्जन से अधिक को जेल भिजवा चुकी है। अभी भी बंग्लादेशियों के जिले में छिपे होने से इंकार नहीं किया जा सकता है। बंगलादेशियों को पहचान पाना मुश्किल हो रहा है। क्योंकि ये साधू के रूप में भी हो सकते हैं, भिखारी के रूप में भी और आम आदमी की तरह भी।

मथुरा -वृंदावन के अलावा गोकुल, महावन, बरसाना, गोवर्धन, बलदेव के मुख्य मंदिरों में दर्शन करने देश-विदेश से श्रद्धालुओं का आवागमन लगा रहता है। यहां पर बड़ी संख्या में साधू भी रहते हैं। साधू के रूप में छुप जाना आसान रहता है। क्योंकि उन पर कोई शक नहीं करता। एलआईयू व पुलिस टीम द्वारा पिछले चार माह में 43 बंग्लादेशियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा जा चुका है।

सभी विदेशियों का पुलिस कराएगी सत्यापन

एसपी सिटी श्रवण कुमार सिंह ने बताया कि साधु वेश में बंग्लादेशी पकड़े जाने के बाद अब पुलिस प्रमुख स्थानों पर बने मंदिर, मठ तथा धर्मशालाओं में रहने वाले लोगों का सत्यापन करेगी। एसएसपी बबलू कुमार ने इलाका पुलिस को निर्देश दिए हैं कि वह अपने क्षेत्र के मंदिर, आश्रम, धर्मशालाओं में रहने वाले साधु वेशधारियों का सत्यापन करें।

एलआईयू, पुलिस को एलर्ट किया गया है। पकड़े जाने वाले बांग्लादेशियों के बारे में यह भी जानकारी कराई जा रही है कि वे किस माध्यम से आए हैं। इनके अन्य साथी कहां कहां हैं। इनके डाक्युमेंट्स कहां बन रहे हैं, इनके बारे में भी जानकारी की जा रही है। फर्जी तरीके से आधार कार्ड बनवा रहे हैं तो इस बारे में भी संबंधित अधिकारी व विभाग को रिपोर्ट भेजी जाएगी।

-बबलू कुमार,एसएसपी

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Police arrest two prominent people from the Bangladeshi Vrindavan