DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  मथुरा  ›  कोरोना से बचाव को लोग ले रहे योग का सहारा

मथुराकोरोना से बचाव को लोग ले रहे योग का सहारा

हिन्दुस्तान टीम,मथुराPublished By: Newswrap
Tue, 01 Jun 2021 04:30 AM
कोरोना से बचाव को लोग ले रहे योग का सहारा

वृंदावन। कोरोना काल में लोगों का योग के प्रति विश्वास बढ़ रहा है। स्थानीय लोग कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए न केवल योग कक्षाओं में सहभागिता कर रहे हैं, बल्कि विभिन्न प्रकार के आसनों का प्रशिक्षण भी ले रहे हैं। पिछले एक महीने में नगर में योग सीखने वालों की संख्या में इजाफा हुआ है।

परिक्रमा मार्ग स्थित श्री संकटमोचन योग अनुसंधान संस्थान पर चल रहे योग प्रशिक्षण शिविर में योग गुरु डा. बालमुकुंद शास्त्री ने बताया कि भारत हमेशा से ही वेद पुराणों, योग की भूमि रही है। यहां हमेशा से विभिन्न रोगों का उपचार योगाभ्यास से होता रहा है। उन्होंने बताया कि कोरोना संक्रमण को रोकने में योग का अपना अलग महत्व है। योग में विभिन्न प्रकार के प्राणायाम जैसे अनुलोम विलोम, नाड़ी शोधन एवं भस्त्रिका प्राणायाम का नियमित अभ्यास कोरोना संक्रमण को काफी हद तक काबू करता है। उनका कहना है कि कोरोना महामारी में व्यक्ति के फेफड़े संक्रमित होते हैं। ऐसे में यदि व्यक्ति अपने फेफड़ों को मजबूत बनाने वाले योग आसन करे तो वह लाभप्रद सिद्ध होंगे। उनके मतानुसार भुजंगासन, गो मुखासन, शशांकासन, मंडूकासन, मत्स्यासन, अर्धचक्रासन, उस्त्रासन, हस्तोत्तान आसन का अभ्यास कोरोना संक्रमण को रोकता है।

योग के प्रति बढ़ रहा है विश्वास

श्यामसुंदर गौतम का कहना था कि योग हमारी भारतीय संस्कृति और सभ्यता में आदिकाल से शामिल रहा है। जब आधुनिक चिकित्सा पद्धति नहीं थी। तब भारतीय जनमानस योग के माध्यम से ही अपनी बीमारियों का इलाज करता था। आज पुन: कोरोनाकाल उसी योग के प्रति लोगों का विश्वास बढ़ रहा है।

योग की सार्थकता को नकार नहीं सकते

श्रीराम शर्मा ने कहा कि भारतीय जीवन शैली में हमेशा से ही योग की महत्वता रही है। आधुनिक परिवेश में योग से लोग भले ही दूर हुए हो, लेकिन आज भी योग की सार्थकता को नकारा नहीं जा सकता है। आज भी बहुत बड़ी संख्या में लोग योगाभ्यास से अपनी विभिन्न बीमारियों का इलाज कर रहे हैं।

संबंधित खबरें