DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गिरिराज जी पर चढ़ने वाले दूध के निस्तारण की एनजीटी ने मांगी रिपोर्ट

एनजीटी ने गिरिराजजी के तीन प्रमुख मंदिरों पर चढ़ने वाले दूध के निस्तारण की कोई व्यवस्था ने करने को लेकर सख्त रुख अख्तियार किया है। यह दूध चढ़ने के बाद परिक्रमा की नालियों में बह रहा है और गंदगी से श्रद्धालु परेशान हैं।

बुधवार को हुई सुनवाई में एनजीटी ने जतीपुरा मुखारबिंद मंदिर और मानसी गंगा मुकुट मुखारबिंद मंदिर के साथ-साथ अन्य मंदिरों का जिक्र किया है, जिनमें दूध निस्तारण की अभी तक स्थाई व्यवस्था नहीं की गई है। वास्तविकता यह है कि मंदिरों का दूध चढ़ने के बाद नालियों में पहुंच रहा हैं, जहां निकासी व्यवस्था न होने के कारण एकत्र होकर दुर्गन्ध फैल रही है। इस संबंध में एनजीटी ने जिला प्रशासन से जल्द ही रिपोर्ट तैयार करने को कहा है। दूसरी ओर करोड़ों श्रद्घालुओं की आस्था का केंद्र मानसी गंगा की पवित्रता पर सवाल खड़े किए, जिसमें अभी तक गंदगी फैली हुई है। एनजीटी की ओर से कहा है कि प्रशासन जल्द ही मानसी गंगा की सफाई कराए और उसके अंदर जाने वाली गंदगी को रोके। मानसी गंगा की ओर डाली गई सीवेज व्यवस्था का दोबारा भौतिक सत्यापन किया जाए, जिससे कि उसको सुधारा जा सके। एनजीटी न्यायालय में जज रघुवेन्द्र एस राठौर की अध्यक्षता में सुनवाई हुई। एनजीटी ने प्रशासन से कहा है कि मानसी गंगा के जल को शुद्ध करें किसी भी सूरत में कूड़ा व कचरा नहीं जानें दें।

चढ़ावे के दूध का हो प्रसाद बनाने में प्रयोग

याचिकाकर्ता आनंद गोपाल दास ने कहा है कि गिरिराज जी पर आस्था में भगवान पर दूध चढ़ाया जाता है और उस दूध को चढ़ाने के बाद नालियों में सीवर के पानी के साथ छोड़ जाता है। गोवर्धन में वर्षों से टनों दूध नालियों में बहा दिया जाता है। उन्होंने एनजीटी न्यायालय से भगवान पर शुद्ध दूध चढ़वाने और चढ़ाने के बाद प्रसाद स्वरूप ग्रहण करने जैसी व्यवस्था की मांग की है।

मानसी गंगा के समीप सीवर कनेक्शन एक माह में पूरे होंगे

एनजीटी न्यायालय के आदेश के बाद प्रशासन ने आश्वस्त किया है कि मानसी गंगा के आसपास के घरों के सीवरेज कनेक्शन एक माह में पूरे कर दिए जाएंगे। गोवर्धन में आठ साल पूर्व सीवरेज लाइन डाली गई थी लेकिन घरों के कनेक्शन नहीं हो पाए थे। अब जल निगम घरों के कनेक्शन सीवर लाइन में कर रहा है, जिससे कि घरों का पानी मानसी गंगा में न जाए।

आनंद बाबा के विरुद्ध एनजीटी-सर्वोच्च न्यायालय में शिकायत

मथुरा। गोवर्धन परिक्रमा के संरक्षण के लिए एनजीटी में याचिका दायर करने वाले आनंद गोपाल बाबा के विरुद्ध मुकेश कुमार शर्मा ने शिकायत देकर सुनवाई की मांग की है। शिकायत में

शर्मा ने कहा है कि यह जनहित याचिका नहीं है, यह ‘निज हित याचिका‘ है, इसलिये आनंद गोपाल की उच्च स्तरीय जांच न्यायालय शासन तथा प्रशासन द्वारा तुरंत कराई जाए। यह याचिका गोवर्धन के पर्यावरण के संरक्षण के लिए नहीं, बल्कि उसके विनाश की है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:NGT's report for disposal of milk that climbs Giriraj ji