ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेश मथुरापांच वर्षीय बच्ची को बेच रही थी मां, चाइल्ड लाइन की टीम ने रोका

पांच वर्षीय बच्ची को बेच रही थी मां, चाइल्ड लाइन की टीम ने रोका

मथुरा। मानसिक रूप से विक्षिप्त मां द्वारा एक पांच वर्षीय बच्ची को बेचा जा रहा था। सूचना मिलने पर चाइल्ड लाइन की टीम मौके पर पहुंच गई और महिला और...

पांच वर्षीय बच्ची को बेच रही थी मां, चाइल्ड लाइन की टीम ने रोका
Newswrapहिन्दुस्तान टीम,मथुराMon, 24 May 2021 04:04 AM
ऐप पर पढ़ें

मथुरा। मानसिक रूप से विक्षिप्त मां द्वारा एक पांच वर्षीय बच्ची को बेचा जा रहा था। सूचना मिलने पर चाइल्ड लाइन की टीम मौके पर पहुंच गई और महिला और उसकी दो बच्चियों को कब्जे में ले लिया। टीम ने पुलिस को भी सूचित कर दिया। पता चला कि कब्जे में ली गई महिला भी मानव तस्करी का शिकार हो चुकी है।

शनिवार को शाम चार बजे ब्लॉक फरह कार्यालय से चाइल्ड लाइन के टोल फ्री नंबर 1098 पर सूचना दी गई कि एक महिला के साथ सात और पांच वर्ष की दो बालिकाएं हैं तथा महिला अपनी 5 वर्षीय बेटी को 500 रुपये में बेचने की बात कह रही है। सूचना पाकर चाइल्ड लाइन टीम के सदस्य अंकित कुमार सविता एवं ममता वर्मा मौके पर पहुंच गईं और महिला को बच्चियों के साथ थाना फरह लेकर गए। इसके बाद थाने से कागजी कार्रवाई पूर्ण कर सामुदायिक स्वस्थ केंद्र पर बालिकाओ का स्वस्थ परीक्षण कराया लेकिन वहां बालिकाओं की कोविड जांच नहीं हो सकी। इसके बाद चाइल्ड लाइन सदस्य देर रात कोविड की जांच के लिए बालिकाओ को लेकर जिला अस्पताल पहुंचे। लेकिन वहां भी अगली सुबह आने के लिए कहा गया। इसके बाद चाइल्ड लाइन सदस्य बालिकाओं को चाइल्ड लाइन कार्यालय लेकर गये।

रविवार को चाइल्ड लाइन सदस्य द्वारा बालिकाओं की कोविड जांच कराई गई जो कि नेगेटिव आई। इसके बाद उक्त दोनों बालिकाओ को बाल कल्याण समिति के आदेश पर राजकीय बाल शिशु गृह में आश्रय प्रदान करा दिया गया है।

महिला हो चुकी है मानव तस्करी का शिकार

चाइल्ड लाइन के कोऑर्डिनेटर नरेन्द्र परिहार ने बताया कि दोनों बच्चियों की मां देखने में मानसिक विक्षिप्त प्रतीत हो रही है। महिला से बात करने पर बच्चियों के पिता का मोबाइल नंबर प्राप्त हुआ। जब चाइल्ड लाइन सदस्य ने उस नंबर पर संपर्क किया तो बालिकाओं के पिता ने अपना नाम जस्सा सिंह बताया। उसने बताया वह पंजाब का रहने वाला है तथा महिला उसकी पत्नी है। चाइल्ड लाइन कोऑर्डिनेटर के अनुसार जस्सा सिंह ने बताया कि करीब छह वर्ष पहले उसने इस महिला को 40 हजार रुपये में खरीदा था। बड़ी बेटी महिला अपने साथ लायी थी, जबकि छोटी बेटी उसकी है। जस्सा ने बताया कि महिला को बेचने वाला व्यक्ति उसके पहचान वाला है। जस्सा ने कहा कि वह करीब छह माह पहले महिला दोनों बेटियों को लेकर गायब हो गई थी। वह अपनी बेटी को लेने आ रहा है। नरेन्द्र परिहार ने बताया कि चूंकि यह मामला मानव तस्करी से जुड़ा प्रतीत हो रहा है। अतः इस संबंध में बाल कल्याण समिति को सूचित कर दिया गया है।

होगी कानूनी कार्रवाई

बाल कल्याण समिति की सदस्य स्नेहलता चतुर्वेदी ने बताया कि यह प्रकरण चाइल्ड लाइन द्वारा संज्ञान में दिया गया है। मामला मानव तस्करी का प्रतीत हो रहा है, अतः समिति द्वारा एएचटीयू को मामले की जांच हेतु आदेशित किया गया है। दोषी पाए जाने पर विधिक कार्रवाई हेतु भी कहा गया है। तब तक दोनों बालिकाए राजकीय बाल शिशु ग्रह में ही रहेंगी।

महिला को नारी निकेतन भेजा

प्रभारी निरीक्षक फरह रमेश भरद्वाज ने बताया है कि बच्चियों की मां को नारी निकेतन भेज दिया गया है। इसके पति के आने के बाद ही इस मामले का निस्तारण किया जाएगा।

epaper